770 से 800 तक में दे रहे सिलेंडर, डिलीवरी ब्वॉय और गाड़ी का खर्च अपनी जेब में

  • शहर के दूरस्थ इलाकों में घरेलू गैस उपभोक्ताओं से मनमानी लूट

नागपुर. केन्द्र सरकार ने घरेलू गैस सिलेंडर के रेट 50 रुपए बढ़ा दिए हैं जिससे हर घर का किचन खर्च बढ़ गया है. लोगों पर महंगाई की मार और ज्यादा बढ़ गई है लेकिन इससे भी बड़ी मार गैस एजेंसियों की ओर से पड़ रही है. गैस एजेंसियां शहर के नए दूर कोनों में बसे नागरिकों के घर तक सिलेंडर डिलीवर करने के अतिरिक्त 40 रुपए तक वसूल रही हैं. डिलीवरी ब्वॉय का कहना है कि उसे मालिक की ओर से सिर्फ रोजी में सिर्फ 200 रुपए दिए जाते हैं इसलिए उसे ग्राहकों से अतिरिक्त पैसे लेने को कहा गया है.

एलपीजी के हर सिलेंडर पर ग्राहक को ज्यादा पैसा देना मुश्किल हो रहा है लेकिन ग्राहकों के पास बहस करने का समय नहीं है वे मजबूरी में जैसे-जैसे घर का चूल्हा जलाने के लिए ज्यादा दाम देकर भी सिलेंडर स्वीकार रहे हैं. ऐसा वाकया इन दिनों नागपुर मनपा के सीमावर्ती इलाकों में धड़ल्ले के साथ चल रहा है. जिन ग्राहकों के पास एजेंसी कर्मचारियों के साथ बहस करने को समय है वे डिलीवरी का दाम कुछ कम करा पाते हैं. 

कई दिनों बाद डिलीवरी करने की धमकी

उत्तर नागपुर के रानी दुर्गावती क्षेत्र में स्थित एलपीजी सप्लायर का डिलीवरी वाहन इस तरफ के कई इलाकों में भ्रमण करता है. यहां रोजाना ग्राहक और डिलीवरी ब्वॉय के बीच बहस नजर आती है. ग्राहकों का कहना है कि वे अपने घर से तीन किलोमीटर तक गैस सिलेंडर रिसीव करने आते हैं. अभी गैस की कीमत 746 रुपए है लेकिन डिलीवरी ब्वॉय घर तक सिलेंडर पहुंचाने के 40 रुपए तक अतिरिक्त मांग रहे हैं. बहस के दौरान डिलीवरी ब्वॉय अपने मालिक से बात करने को कहता है.

गैस उपभोक्ता ने फोन पर एजेंसी पर बात किया तो एजेंसी के कर्मचारी ने बताया कि यदि आपको समय पर डिलीवरी चाहिए तो आपको अतिरिक्त पैसे देने पड़ेंगे. नहीं तो सिलेंडर टाइम पर नहीं मिलेगा. बताया जा रहा है कि इस प्रक्रिया में गैस एजेंसी के मालिकों की मौन सहमति है.

अतिरिक्त पैसे की कोई रसीद नहीं

डिलीवरी ब्वॉय से अतिरिक्त पैसे की रसीद मांगने पर वह कोई रसीद देने को तैयार नहीं है. डिलीवरी ब्वॉय का कहना है कि इस पैसे के लिए मेरा मालिक ही जिम्मेदार है. मैं गरीब आदमी हूं. मुझे मालिक की ओर से पैसे नहीं मिलते इसलिए मुझे अपना पैसा निकालने के लिए अतिरिक्त पैसा लेना पड़ता है.