9,27,000 new cases of Covid-19 were reported in Europe in a week
File Photo : PTI

  • पाजिटिव की संख्या में भी घटी

नागपुर. सितंबर महीने में कोरोना का आतंक इस कदर बढ़ गया था कि हर दिन मरने वालों का आंकडा 50 से अधिक हुआ करता था. अब अक्टूबर में राहत मिलती नजर आ रही है. शनिवार को पिछले 3-4 महीने में सबसे कम 13 मरीजों की मौत दर्ज हुई है. इनमें सिटी के केवल 6 मरीजों का समावेश रहा. जबकि 7 मरीज अन्य जिलों के रहे. इसके साथ ही अब तक जिले में कुल 2925 मरीजों की मौत हो गई है.

डाक्टरों की संभावना के अनुरुप गुरुवार से पाजिटिव के साथ ही मरने वालों की भी संख्या कम हुई है. कुल 13 मरीजों की मौत हुई है. इनमें 6 मरीज जिले के रहे. शनिवार को जिले में कुल 7402 टेस्ट की गई. इनमें 540 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई. जिसमें सिटी के 369 और ग्रामीण के 164 लोगों का समावेश है. इनमें से अधिकांश मरीजों में लक्षण कम देखे गये.

जिन मरीजों में तीव्र लक्षण देखे गये उन्हें अस्पतालों में भर्ती किया गया है. इसके साथ ही अब तक जिले में मरीजों की संख्या 90301 हो गई. फिलहाल जिले में 6733 एक्टिव केस मौजूद है. इनमें से अधिकांश मरीज होम आयसोलेशन में इलाज करा रहे हैं. अब तक जिले में 555913 लोगों की जांच की जा चुकी है. इनमें 4 लाख से अधिक लोगों की जांच सिटी में की गई है. इस बीच 790 मरीजों को ठीक होने के बाद छुट्टी दी गई. इस तरह अब तक कुल 80643 मरीजों को छुट्टी दी जा चुकी है. कुल रिकवरी रेट 89.30 फीसदी हो गया है.  

मेयो, मेडिकल के डाक्टरों को राहत

मरीजों की संख्या कम होने के साथ ही पिछले 5-6 महीनों से व्यस्त मेडिकल और मेयो के डाक्टरों ने भी राहत की सांस ली है, अब दोनों अस्पतालों में मरीज कम हुये हैं. कोविड अस्पतालों में पहले जैसी मरीजों की भीड़ नहीं है. मरीजों की संख्या कम होने के बाद अब डाक्टरों सहित अन्य स्टाफ के अपने मूल जगह पर शिफ्टिंग की कार्यवाही भी की जा रही है. लेकिन प्रशासन ने अगले दिसंबर तक डाक्टरों को अलर्ट पर रहने के निर्देश दिये है. भले ही मरीज कम हो रहे है, लेकिन डाक्टर ‘सेकेंड वेव’ की संभावना के मद्देनजर पूरी तैयारी में है. यदि ‘सेकेंड वेव’ की तीव्रता कम रही तो फिर इलाज के लिए मरीजों को भटकना नहीं पड़ेगा. 

सिटी में अब तक की स्थिति 

90301 कुल संक्रमित

2925 की मौत 

540 शनिवार को पाजिटिव

80643 हुये ठीक