बिना RT-PCR टेस्ट जिले में प्रवेश बंदी

  • जिलाधिकारी ठाकरे ने जारी किया आदेश

नागपुर. कोरोना के दोबारा बढ़ते कहर को देखते हुए जिलाधिकारी रवीन्द्र ठाकरे ने अब दूसरे राज्यों से आने वाले नागरिकों को बिना आरटी-पीसीआर टेस्ट के प्रवेश नहीं देने का आदेश जारी कर दिया है. दूसरे राज्यों से विमान, रेलवे व सड़क मार्ग से आने वाले नागरिकों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया है. ठाकरे ने कहा कि नागपुर सहित देशभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बड़े पैमाने पर बढ़ोतरी हो रही है. कोरोना के संक्रमण पर नियंत्रण के लिए अब बाहरी राज्यों आने वाले लोगों की आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया है. 25 नवंबर से ही इस आदेश पर अमल करने का निर्देश सभी संबंधित यंत्रणा को दिया गया है.

निगेटिव रिपोर्ट होना जरूरी

जिलाधिकारी ने बताया कि नागपुर जिले के ग्रामीण भागों व सिटी में फिर कोरोना के मरीज बढ़ने लगे हैं. राज्य सरकार ने भी इस संदर्भ में सभी जिलों को अवगत किया है. मुख्य रूप से दिल्ली, एनसीआर, राजस्थान, गुजरात और गोवा राज्यों से आने वाले यात्रियों के पास कोरोना की आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट होना जरूरी है, तभी उन्हें प्रवेश दिया जाएगा. जिला स्तर पर स्वास्थ विभाग, पुलिस विभाग और राजस्व विभाग के अधिकारियों की टीम गठित की गई है. ये टीम नागपुर जिले में रेलवे मार्ग से काटोल व नरखेड़ दिशा से आने वाले यात्रियों की सूची रेलवे से प्राप्त कर आरटी-पीसीआर रिपोर्ट की जांच करेगी. 

सीमा पर जांच की व्यवस्था

इसी तरह जिले के सावनेर, नरखेड़, रामटेक के रास्ते नागपुर जिले में प्रवेश करवे वाले नागरिकों की जांच करने के लिए जिले की सीमा पर जांच चौकी तैयार करने का निर्देश उन्होंने दिया है. उन्होंने कोरोना संक्रमण के दोबारा बढ़ती संख्या को देखते हुए नागरिकों से मास्क पहनने, सुरक्षित अंतर रखने, बार-बार साबुन से हाथ धोने, सैनिटाइजिंग करने और जरूरत न हो तो घर से बाहर नहीं निकलने की अपील की है. ठाकरे ने कहा है कि जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं आ जाती तब तक नागरिकों को उपरोक्त इन्हीं उपायों का पालन कड़ाई से करना होगा.