Fear of Corona, darling, looking young, having fun

नागपुर. अब जब कोरोना संक्रमितों की संख्या रोज ही तेजी से बढ़ती जा रही है वहीं सिटी के लोगों में इसका डर तो बिल्कुल रफूचक्कर नजर आ रहा है. जिधर देखो उधर लोग ग्रुप में नजर आ रहे हैं. भीड़भाड़ वाले इलाकों में भी बेखौफ जा रहे हैं और सोशल डिस्टेंसिंग तो पूरी तरह भूल चुके हैं. ऐसा लग रहा है जैसे किसी को इस जानलेवा महामारी का कोई भय रह ही नहीं गया. खासकर युवा वर्ग तो मौजमस्ती में उतर आए हैं. ट्रिपल सीट बाइक में युवक और युवतियां भी बड़ी संख्या में नजर आ रहे हैं.

लाकडाउन शिथिल करते ही मानों युवा पिकनिक के मूड में आ गया है. वहीं बर्डी जैसे बाजार में लोग फुटपाथ विक्रेताओं से सामान खरीदने के लिए ऐसे टूट पड़ रहे हैं मानों उन्हें वह सामान कभी मिलेगा ही नहीं. सिटी में ऐसा नजारा दिख रहा है जो कोरोना धमाका कर सकता है. वैसे भी डाक्टरों का कहना है कि जुलाई से नवंबर तक पीक समय होगा और उसके बाद धीरे-धीरे कोरोना का प्रभाव कम हो सकता है. ऐसे में अभी वह वक्त है जब अधिक सावधानी व सतर्कता की जरूरत है लेकिन सिटी के लोगों को लगता है भय बिल्कुल नहीं रह गया है.

अंबाझरी में मछलीमार रहे लोग
सिटी के अंबाझरी लेक में मछली पकड़ने वाले युवाओं का समूह उमड़ रहा है. एक-दूसरे से सटकर बैठ वे मछली मार रहे हैं. यहां युवतियां भी नजर आ रही हैं. कोई मास्क तक नहीं पहन रहा है और सोशल डिस्टेंसिंग की तो धज्जियां ही उड़ रही हैं. आश्चर्यजनक यह है कि अंबाझरी लेक परिसर में किसी तरह की सुरक्षा व्यवस्था नहीं की गई है जो इस भीड़ को यहां से भगा सके. 

लवबर्ड्स का मजमा
करीब 2 से ढाई महीने घरों में कैद रहने के बाद अचानक लाकडाउन में मिली छूट तो लववर्ड्स के लिए वरदान बन गई है. अंबाझरी, फुटाला लेक परिसर से लेकर तो सेमिनरी हिल्स व सिविल लाइन्स के कुछ वीरान से रहने वाली सड़कों के किनारे प्रेमी जोड़े अपना मजमा लगाने लगे हैं. लवबर्ड्स तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करेंगे नहीं. अंबाझरी लेक परिसर में ऐसा नजारा आम हो गया है.

रामगिरी रोड पर फोटो सेशन
सण्डे को तो सिविल लाइन्स जैसे पाश इलाके में रामगिरी रोड जहां सीएम निवास, पुलिस जिम खाना, डीजी आफिस व न्यायाधीशों के बंगले हैं उस रोड पर युवक-युवतियों का मजमा ही नजर आया. ये युवक-युवतियां रोड के किनारे घंटों जमे रहे. कुछ ने रोड के बीच में बाइक खड़ी कर रखी धी. अधिकतर ने मास्क नहीं लगाया था. यहां इनका फोटो सेशन व सेल्फी सेशन बेखौफ चलता है. इस इलाके में पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों का आना-जाना भी लगा रहता है लेकिन किसी ने इन्हें वहां से हटाने की कोशिश तक नहीं की. ऐसी भीड़ सिटी में कोरोना संक्रमण फैलाने के लिए विस्फोटक हो सकती है. 

बर्डी में उमड़ रही भीड़
सिटी के बाजारों में तो भीड़ उमड़ ही रही है और लोग सब्जियां आदि खरीदने के लिए भीड़ लगा ही रहे हैं वहीं सीताबर्डी में सण्डे को लोगों की भारी भीड़ देखी गई. फुटपाथ पर कपड़े, जूते-चप्पल, रेनकोट, सौंदर्य प्रसाधन आदि सामान बेचने वाले विक्रेताओं के सामने लोग भीड़ लगाकर खरीदी करते नजर आए. यहां भी अधिकतर विक्रेताओं ने मास्क नहीं पहना था और ना ही ग्लब्ज लगाए थे. सीताबर्डी पुलिस थाने के ठीक सामने यह खतरनाक नजारा था लेकिन पुलिस ने किसी तरह की कार्रवाई नहीं की.