nmc

    • 05 लाख प्रत्येक जोन को दिए हैं 
    • 02 करोड़ एजेन्सी पर होने हैं खर्च

    नागपुर. शहर के विभिन्न हिस्सों में सड़कों पर गड्ढे होने से बारिश के दौरान दुर्घटनाएं होने की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है. बस्तियों की भीतरी सड़कों के अलावा मुख्य सड़कों पर भी गड्ढे होने के मामले उजागर हो रहे हैं. इन गड्ढों को लेकर लगातार शिकायतें मिल रही हैं. अत: जल्द से जल्द गड्ढे भरने का काम शुरू करने के निर्देश महापौर दयाशंकर तिवारी ने प्रशासन को दिए.

    उन्होंने कहा कि गड्ढे भरने के लिए प्रत्येक जोन के लिए 5 लाख रु. निधि आवंटित की गई है. इसके अलावा हाल ही में स्थायी समिति ने गड्ढे भरने के लिए एक एजेन्सी की नियुक्ति की है जिस पर लगभग 2 करोड़ का खर्च होने की संभावना है. अत: अब तुरंत प्रक्रिया शुरू होनी चाहिए. 

    7 दिनों में दें रिपोर्ट

    महापौर ने कहा कि गड्ढे भरने के बाद रोड के नाम के साथ 7 दिनों के भीतर कार्य  की रिपोर्ट पेश करनी होगी. बताया जाता है कि मनपा के हाटमिक्स प्लांट द्वारा गड्ढे भरने का काम किया जाता है जिसके लिए बजट में प्रावधान किया गया है. इससे निधि का समय के भीतर उचित उपयोग होना जरूरी है. अत: कार्य को गति देनी होगी.

    इसके लिए जोनल स्तर पर सहायक आयुक्तों को नियोजन करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि सभी सहायक आयुक्त उनके जोन में आने वाले सभी पार्षदों को पत्र भेजकर गड्ढों की शिकायतें प्राप्त करें. यदि जोनल स्तर पर इन शिकायतों का निपटारा करना संभव हो तो जोन निधि का उपयोग किया जाए जिससे हाटमिक्स प्लांट की राह देखने की आवश्यकता नहीं होगी. गड्ढे भरने का दायित्व हाट मिक्स प्लांट विभाग पर है. यदि इसमें कोताही बरती गई तो उसे स्वीकार नहीं किया जाएगा. इसे गंभीरता से लेने की हिदायत भी उन्होंने दी.

    ठेकेदारों को झटका

    शहर के अनेक हिस्सों में सीमेंट रोड का काम किया गया है लेकिन 2 सड़कों में इंटरलॉकिंग नहीं किया गया जिससे दुर्घटना होने की भारी संभावना है. ऐसे अधूरे कार्य कर बिल पेश करने वाले ठेकेदारों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए उन्हें काली सूची में डालने के लिए नोटिस जारी करने का झटका महापौर ने दिया.

    कई बार संबंधित एजेन्सी की ओर से गड्ढे भरे जाने की जानकारी दी जाती है लेकिन प्रत्यक्ष रूप में काम हुआ है या नहीं, इसका अवलोकन करना जरूरी है. काम नहीं होने पर संबंधित एजेन्सी के खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश भी दिए. धंतोली जोन अंतर्गत कॉटन मार्केट से मोक्षधाम तक की सड़क खराब हो चुकी है. जोन की ओर से सीमेंट रोड प्रस्तावित किया गया था किंतु वह मंजूर नहीं किया गया. इस कार्य को पुन: शुरू करने के निर्देश भी दिए.