Fraud
Representational Pic

  • शिवसेना में खलबली, आलाकमान भी नाराज

नागपुर. शिवसेना में विधानसभा सीट और गड़चिरोली का जिला प्रमुख पद दिलाने के नाम पर पार्टी के शहर प्रमुख मंगेश कढ़व द्वारा 25 लाख की धोखाधड़ी की अशोक धापोड़कर द्वारा की गई शिकायत के बाद खलबली मच गई है. मामले की गंभीरता को देखते हुए डीसीपी विवेक मसाल ने इसकी छानबीन भी शुरू की है. इस खबर के बाद पार्टी के आला नेता भी बुरी तरह क्षुब्ध बताये जा रहे हैं.

थाने पहुंचकर देखे दस्तावेज
धापोड़कर द्वारा दी गई शिकायत के बाद एपीआई तायड़े इस मामले की छानबीन में लगे हुए हैं. डीसीपी विवेक मसाल गुरुवार को दोपहर में बजाज नगर पुलिस थाने पहुंचे. संबंधित अधिकारियों से इसकी प्रगति की जानकारी मांगी. दस्तावेज देखने के बाद प्रकरण को पूरी संजीदगी के साथ जांच करने के निर्देश दिये. डीसीपी ने बताया कि शिकायत और सबंधित दस्तावेजों की जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी.

धापोड़कर पर ‘दबाव’ डालने की कोशिश
शिवसेना में पदाधिकारियों द्वारा पदों की रेवड़ी बांटने में ‘लेन-देन’ की कहानी कोई नई नहीं है. मात्र पहली बार धापोड़कर जैसे कार्यकर्ता ने हिम्मत जुटाकर किसी शहरप्रमुख के खिलाफ शिकायत दिया है. पता चला है कि पार्टी के ही कुछ असामाजिक तत्वों के माध्यम से धापोड़कर को गुरुवार को डराने और दबाव डालने का प्रयास किया गया. लेकिन वे बिल्कुल भी किसी से नहीं डरे और गहराई से जांच की मांग पर अडिग रहे. 

मुंबई से की गई पूछताछ
कढ़व के इस मामले की खबर सोशल मीडिया पर वायरल हुई, जिससे पार्टी की काफी फजीहत हो रही है. बताया गया कि इस ‘लेन-देन’ में पार्टी के दो बड़े नेता शामिल हैं, ऐसा धापोड़कर को जानबूझकर बताया गया. बड़े नेताओं को यह जानकारी भी मिली कि पिछले दिनों वाड़ी इलाके में कुछ शिवसैनिकों द्वारा सुपारी का एक ट्रक पकड़ा गया था. इस ट्रक को छुड़ाने के लिए मंगेश कढ़व अपने व्यापारी साथियों के साथ पहुंचे थे, मात्र वहां शिवसैनिकों की नाराजगी देखने के बाद उन्हें उल्टे पैर वापस आना पड़ा था. मात्र राज्य में अपनी ही सरकार और उद्धव ठाकरे के खुद मुख्यमंत्री होने के कारण इस तरह की खबरों से आला नेताओं में भंयकर नाराजगी है. जल्दी ही इस मामले में पार्टी को कड़ा फैसला कर सकती है.

जाधव बोले: मेरा लेना-देना नहीं 
‘नवभारत’ से जिला प्रमुख प्रकाश जाधव ने कहा कि उनका इस मामले में कोई लेना-देना नहीं है. पैसे के लेन-देन के समय उनकी मौजूदगी का जो उल्लेख किया गया था, वह बात भी सरासर गलत है. जाधव के मामले में धापोड़कर ने भी एक ज्ञापन जारी कर कहा कि जाधव के खिलाफ उनकी शिकायत नहीं है. 

कढ़व का दावा : पार्टी कार्यों में खर्च किया पैसा
शहर प्रमुख मंगेश कढ़व ने शाम को शिवसेना भवन में जिला प्रमुख प्रकाश जाधव के साथ मिलकर पत्रकार-परिषद लिया. कढ़व के अनुसार जो भी पैसे के लेन-देने की बात धापोड़कर द्वारा की जा रही है, वह उसने पार्टी के लिए खर्च किया है. धापोड़कर को गड़चिरोली से चुनाव लड़ने की इच्छा थी. टिकट नहीं मिली इसलिए उसने पार्टी और पद दोनों छोड़ दिया. राज्य में फिर से सत्ता आने के बाद वह फिर से आया और मुझे महत्वपूर्ण पद दिलाने की मांग करने लगा. कढ़व ने बताया कि उन्होंने असमर्थता दिखाई तब उसने देख लेने की धमकी दी जिसके बाद पुलिस में शिकायत दर्ज कराई. जो ज्ञापन कढ़व द्वारा जारी किया गया उसमें धापोड़कर ने पैसे कितने खर्च किये, इसका कोई उल्लेख नहीं है.