Sushant Death Case: Complaints regarding Sandeep Singh will be sent to CBI : Anil Deshmukh
File

  • गृहमंत्री ने नियंत्रण के लिए तय की अधिकारियों की जवाबदारी

नागपुर. जिले व सिटी में तेजी से बढ़ते कोरोना के प्रकोप पर नियंत्रण के लिए अब कड़े कदम उठाने का निर्देश गृहमंत्री अनिल देशमुख ने दिया है. बिना मास्क लगाए घरों से बाहर घूमने वालों पर अब तक 200 रुपये दंड ठोका जा रहा था जिसे उन्होंने बढ़ाकर 500 रुपये करने का निर्देश विभागीय आयुक्त कार्यालय में हुई बैठक में दिया. अब 14 सिंतबर से यह जुर्माना 500 रुपये वसूला जाएगा.

कोरोना नियंत्रण के संदर्भ में आयोजित बैठक में पालकमंत्री नितिन राऊत भी उपस्थित थे. दोनों ने निर्देश दिया कि अब नागपुर में मृत्युदर किसी भी हालत में नहीं बढ़ना चाहिए इसके लिए सभी अधिकारी उन्हें दिये गए कार्य पूरी जवाबदारी से करें. उन्होंने बेड मैनेजमेंट, कान्टेक्ट ट्रेसिंग की जिम्मेदारी वैद्यकीय यंत्रणा के साथ जुड़े प्रशासकीय अनुभवी अधिकारियों को संभालने का निर्देश दिया.

बैठक में पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार, मनपा के अतिरिक्त आयुक्त जलज शर्मा, कोविड-19 के नोडल अधिकारी तथा वस्त्रोद्योग संचालक डॉ. माधवी खोडे, मिताली सेठी, मनीषा खत्री, अतिरिक्त जिलाधिकारी श्रीकांत फडके, अतिरिक्त आयुक्त राम जेाशी, उपायुक्त मिलिंद सालवे, निवासी उपजिलाधिकारी रवींद्र खजांजी, उपजिलाधिकारी आशा पठान, स्वास्थ उपसंचालक डॉ. संजय जायस्वाल, जिला शल्य चिकित्सक डॉ. देवेंद्र पातूरकर, डीन डॉ. अजय केवलिया, डीन डॉ. सुधीर गुप्ता, डॉ. अविनाश गावंडे, जिला स्वास्थ अधिकारी डॉ. दीपक सेलोकार सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

पुलिस फिर बरतेगी कड़ाई
सिटी में भीड़ को नियंत्रित करने और अनुशासित करने के लिए 14 सितंबर से पुलिस प्रशासन को फिर से सक्रिय होने का निर्देश बैठक में दिया गया है. पालकमंत्री राऊत ने कहा कि नागपुर में बेड उपलब्ध नहीं होने की सभी ओर से शिकायतें आ रही हैं जिसेक चलते मनपा डेडिकेटेड कोविड हास्पिटल की संख्या और बढ़ाए. उन्होंने निर्देश दिया कि किसी भी हालत में दोनों सहकारी अस्पताल से मरीज वापस नहीं जाना चाहिए इसके लिए बेड उपलब्धता के डेशबोर्ड सभी अस्पतालों में तुरंत लगाए जाएं. मेयो और मेडिकल में वार रूम गठित करने, विविध विभागों के अधिकारियों के बीच समन्वय बढ़ाने, अस्पतालों से मरीजों के परिजनों की भीड़ कम करने, मरीज संबंधी जानकारी उनके परिजनों को नियमित देने की व्यवस्था करने का निर्देश बैठक में दिया गया.

फाइनल ईयर स्टूडेंस्ट की सेवा लें
अस्पतालों में स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए सरकारी व अनिदानित मेडिकल कालेजों में अंतिम वर्ष की परीक्षा देने वाले सबी विद्यार्थियों को सेवा में नियुक्त करने और आशा व आंगनवाड़ी सेविकाओं के साथ परिचारिकाओं को भी आवश्यक मानधन बढ़ाकर सेवा में नियुक्त करने का निर्देश दिया.

नागरिकों में अभी भी कोरोना को लेकर संभ्रम की स्थिति है जिसके लिए जनजागृति करने को जरूरी बताया गया. कोरोना को मात देने के लिए काम करने वाले पुलिस के जवानों व अन्य विभागों को कोरोना योद्धाओं के लिए अत्याधुनिक सुविधा वाला अस्पताल तैयार करने का निर्देश मनपा को दिया गया. साथ ही मुंबई से आई विशेषज्ञों की टीम द्वारा दिये गए सुझावों को 8 दिनों में अमल में लाने का निर्देश दोनों मंत्रियों ने संबंधित अधिकारियों को दिये.