100% response to mini lockdown, order to keep school closed till 31 March
File Photo

    नागपुर. कोरोना की चेन को ब्रेक करने के प्रयास के चलते सिटी में 15 मार्च से लगाए गए संपूर्ण लॉकडाउन को चौथे दिन भी अच्छा प्रतिसाद मिला. लोग खुद ही घरों से नहीं निकल रहे हैं. केवल नौकरीपेशा और अनिवार्य सेवा से जुड़े लोगों को ही बाहर देखा जा रहा है. अब तो दोपहर 1 बजे के बाद सब्जी, फल के ठेले भी पूरी तरह बंद हो रहे हैं. सिटी में कोरोना का भयानक ब्लास्ट हो रहा है. रोज 3,000 से अधिक पॉजिटिव निकल रहे हैं जिससे लोगों में दहशत भी देखी जा रही है. अस्पतालों में अब जगह नहीं मिलने की स्थिति बन गई है. कई अस्पतालों में ऑक्सीजन वाले बेड पूरी तरह भर चुके हैं इसलिए भी लोगों को सतर्क रहते हुए खुद को इस संक्रमण से बचाने की जरूरत है. पालक मंत्री व स्थानीय प्रशासन की अपील का शहरवासी अच्छा प्रतिसाद देते हुए लॉकडाउन में सहयोग करते नजर आ रहे हैं.

    चौराहों पर पुलिस बंदोबस्त

    मुख्य चौराहों पर पुलिस की नाकेबंदी की गई है. यहां बेरिकेड लगाए गए हैं. दोपहिया पर सिंगल सवारी को आवागमन की छूट है लेकिन डबल सवारी की अनुमति नहीं है. ऐसे लोगों को रोककर घरों के बाहर आने का कारण पूछा जा रहा है. कारण संतोषजनक नहीं होने पर जुर्माना की कार्रवाई भी की जा रही है. कुछ गिन-चुने गैरजिम्मेदार नागरिकों को छोड़कर सभी प्रशासन का सहयोग कर रहे हैं. दूकानें तो पूरी तरह बंद रखी जा रही हैं. किराना मार्केट भी अब दोपहर 1 बजे बंद हो रहा है. 

    बाजार क्षेत्रों में वीरानी

    सिटी के सभी बाजार क्षेत्रों में वीरानी छायी हुई है. सारी दूकानें ही बंद होने के चलते यहां कोई नजर नहीं आता. सड़कों पर इक्का-दुक्का वाहन ही इन क्षेत्रों में नजर आए. मुख्य सड़कों पर जरूर वाहनों की आवाजाही नजर आ रही है जिनकी जांच पुलिस द्वारा की जा रही है. ऑटो भी बहुत ही कम नजर आए. वहीं सिटी बसों में भी सवारियां कम दिखीं. कहा जा रहा है कि कड़ाई से लॉकडाउन का पालन किया गया तो आगामी दिनों में  कोरोना संक्रमण कम जरूर हो पाएगा.

    पालक मंत्री ने की अपील

    पालक मंत्री नितिन राऊत ने जिले में 15 से 21 मार्च तक कड़ा लॉकडाउन का पालन करने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि अभी भी कुछ नागरिकों को गंभीर नहीं देखा जा रहा है जिसके कारण आने वाले समय में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ सकती है. इसे नियंत्रित करने के लिए विनती है कि वे घरों से बाहर नहीं निकलें. प्रशासन द्वारा बड़ी संख्या में जांच और वैक्सीनेशन किया जा रहा है. मरीजों की संख्या कम करने का प्रयास किया जा रहा है. सभी प्रशासन का साथ दें. दिशानिर्देशों का पालन करें.