CRIME

  • RPF-GRP की संयुक्त कार्रवाई, 48,500 रु. का माल बरामद

नागपुर. एसईसीआर नागपुर रेलवे सुरक्षा बल और लोहमार्ग पुलिस इतवारी ने महिला चोरों की एक गैंग को डेढ़ घंटे के भीतर धरदबोचा. एक महिला यात्री की शिकायत पर पुलिस ने चोरों की तलाश की और बेहतर समन्वय की मदद से 3 महिला चोरों को पकड़ा. इनमें से एक के पास चोरी किए 48,500 रुपये के सोने-चांदी के गहने और नकदी भी बरामद की. आरोपी सत्रापुर, कन्हान निवासी बीना विजेन्द्र लाडे (40) और सत्याफुला भैडन पुरवडे (40) तथा पीपर चमार टोली, कन्हान निवासी सिमरन दयानंद पेंडारे (30) बताई गई.

गोंदिया-इतवारी मेमू में किया हाथ साफ

जानकारी के अनुसार, सुगतनगर, जरीपटका निवासी प्रवीणा संजय घरडे (35) गोंदिया-इतवारी मेमू ट्रेन से कामठी उतरीं. उसी समय गश्त पर मौजूद आरपीएफ के एपीआई मोहम्मद मुगीसुद्दीन, ईशांत दीक्षित और महिला आरक्षक प्रिज्मा शर्मा गश्त पर थे. एक अन्य महिला यात्री उन्हें 2 महिलाओं की ओर इशारा करते हुए बता रही थी कि यह जबरन उनकी बैग से सामान निकालने की कोशिश कर रही थी. तभी प्रवीणा ने एपीआई मुगीसुद्दीन के बताया कि किसी ने उनके लेडीज बैग से सोने की अंगूठी और मणि के अलावा चांदी की चेन और 400 रुपये चुरा लिये हैं. इसके बाद फुर्ती दिखाते हुए मुगीसुद्दीन और उनकी टीम ने बीना और सत्याफुला को कामठी स्टेशन परिसर से ही धरदबोचा. इस समय तक ट्रेन इतवारी के लिए रवाना हो गई थी. कड़ी पूछताछ में दोनों ने चोरी की कबूली दी लेकिन सारा माल अपनी तीसरी साथी के पास होना बताया.

इतवारी में पकडी गई तीसरी चोर

इसके बाद तुरंत ही एपीआई मुगीसुद्दीन ने इतवारी जीआरपी के एपीआई मुबारक शेख से संपर्क किया और तीसरी चोर के बारे में उसके हुलिया आदि की जानकारी दी. शेख तुरंत ही अपनी टीम के साथ प्लेटफार्म पर पहुंचे और ट्रेन के आते ही उक्त महिला की तलाश शुरू की. कुछ देर में ही उसी हुलिये की महिला एक बच्चे के साथ ट्रेन से उतरी. उसे हिरासत में लेकर फोटो खींची गई और वॉट्स एप के माध्यम से एपीआई मुगीसुद्दीन को भेजकर सिमरन के तौर पर पुष्टि की गई. इसके बाद सिमरन की तलाशी में प्रवीणा के पर्स से चोरी गया सारा सामान बरामद किया गया.

प्रवीणा की शिकायत पर सिमरन को भी गिरफ्तार कर महिला चोरों की गैंग पर मामला दर्ज किया गया. यह कार्रवाई आरपीएफ, एसईसीआर नागपुर के मंडल सुरक्षा आयुक्त पंकज चुघ और जीआरपी नागपुर के पुलिस अधीक्षक एम. राजकुमार के मार्गदर्शन में एपीआई मुगीसुद्दीन, एपीआई मुबारक शेख, इशांत दीक्षित, प्रिज्मा शर्मा, विवेक कनोजिया, डी. पासवान, मणिशंकर, एएसआई राजेश वरठे, सतीश बोरडे, दीप्ति बेंडे, धम्मा गवई, अमित अवताडे आदि ने की.