हाईवे के बीच खुल गए गैरेज, यूज्ड कारें भी बिक्री के लिए सड़क पर

नागपुर. गैरेजों के पास दुरुस्ती कार्य के लिए जगह नहीं होने से अब वे खुले चौड़े हाईवे मार्ग का उपयोग कर रहे हैं. यहां उनके पास भरपूर खुली जगह उपलब्ध हो गई है और रोक-टोक के लिए कोई भी नहीं है. यह नजारा टेका कामठी रोड पर किसी भी समय देखा जा सकता है. भले ही गरीबी के नाम पर कितना ही रोना हो, लेकिन शहर में कारों की संख्या बढ़ती जा रही है. जैसे-जैसे कारों की संख्या बढ़ रही है वैसे-वैसे इन्हें दुरुस्त कराने वालों की संख्या भी बढ़ रही है.

इसलिए गैरेजों में ज्यादा कारें पहुंच रही हैं. कार सुधारने के लिए गैरेज वालों के हाथ खाली नहीं हैं. ऐसे में देखने में आ रहा है कि जहां गैरेज है वहां पर कारें खड़ी करने को जगह नहीं है. गड्डीगोदाम में गैरेजों की कारें दुरुस्ती के लिए सामने रोड पर खड़ी हुई हैं. इस बीच कई गैरेज संचालकों ने खुले हाईवे के बीच ही अपना गैरेज शुरू कर दिया है. 

टेका कामठी रोड पर मेट्रो डबल डेकर फ्लाईओवर के नीचे ही गैरेज वालों ने कारों को खोलकर सुधारना शुरू कर दिया है. मेट्रो काम के लिए पहले से ही मार्ग कई सालों से बाधित था. अब यह मार्ग खुल गया है लेकिन गैरेज वालों ने यहां अपना सामान बिखरा दिया है. 

वाहन टकराने का खतरा

इस मार्ग से चौबीस घंटे वाहन गुजरते हैं. वाहन बहुत तेजी में होते हैं. लेकिन गैरेज वाले यहीं पर चौपहियों का सामान खोलकर बैठे हुए हैं. यहां सुबह से रात तक दुरुस्ती काम चलते रहता है. वाहन चालकों को इस जगह पर गैरेज होने का अनुमान नहीं रहता जिससे वे समझ नहीं पाते और कभी भी बड़ी दुर्घटना का खतरा बना हुआ है. इसी जगह पर यूज्ड कार बेचने वालों ने भी अपने ग्राहकों के यूज्ड वाहन भी बिक्री के लिए खड़े कर रखे हैं. 

अतिक्रमण विभाग का ध्यान नहीं

अतिक्रमण विभाग समय-समय पर सड़क से अतिक्रमण, ठेकेवालों, फेरी वालों को हटाने की मुहीम चलाता है लेकिन सड़क पर गैरेज और यूज्ड वाहनों की पार्किंग पर विभाग का ध्यान नहीं है. इसी तरह यहां से कई बार यातायात पुलिस के अधिकारी व कर्मचारी भी गुजरते हैं, लेकिन अब तक इन्हें न हटाया गया है न कोई नोटिस दी गई है.

शहर के कई स्थानों पर डंप कारों की भी कमी नहीं है. कारें खराब और अनुपयोगी होने के बाद कबाड़ के रूप में सड़क के किनारे ही रखकर छोड़ दी गई हैं. शहर के मोतीबाग, दस नंबर पुलिया, ग्रेट नाग रोड, शांतिनगर आदि क्षेत्र में अनेक पुराने वाहन सड़क किनारे छोड़ दिए गए हैं.