Land Mafia
Representational Pic

    नागपुर. वृद्धों की निरक्षरता का फायदा उठाकर एक युवक ने सरकारी योजनाओं का लाभ उठाकर वेतन शुरू करने का लालच दिखाकर काफी कृषि भूमि हड़प ली. इसमें 3 की कृषि भूमि की रजिस्ट्री रखी गई है तो 4 के नाम पर जमीन बेचने का करार किया गया है. मौजा भोवरदेव के एक युवक रतिराम शंकर मोटघरे ने पहले गांव के बुजुर्गों का विश्वास जीता. फिर संजय गांधी निराधार योजना और अंत्योदय प्राथमिकता समूह के लिए राशन कार्ड बनाने के लिए उन्हें लुभाकर उनके दस्तावेज एकत्र किए जो पारस्परिक रूप से पंजीकृत थे. कुछ के नाम पर उन्होंने कृषि भूमि के लिए रजिस्ट्री कर ली. वहीं, कुछ जमीन के करारनामे करके रख लिये.

    हुआ खुलासा तो मंचा हंगामा

    इसी बीच किसानों के बच्चों को पता चला कि एक का खेत किसी दूसरे के नाम पर कर दिया गया है. तब उन्होंने सारे मामले की खोजबीन तो रतिराम के कारनामें का खुलासा हुआ. फिर पता चला कि रतिराम ने और भी किसानों के साथ भी धोखाधड़ी की हुई है. इनमें नामदेव बांडबुचे, सिंधु आस्वाले, टोनेश्वर बांडबू की कृषि भुमि की रजिस्ट्री कर गुणराज बांडबूचे, वामन रक्तशिगणे, शालू आस्वाले, हरिदास पाटिल और पांडुरंग बांडबुचे के नाम अधिकृत करारनामा करने का खुलासा हुआ. पीडितों ने पुलिस में लिखित शिकायत दर्ज कराई. हालांकि अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है. पुलिस जांच कर रही है.