मांजा से हाथ, उंगलियां और नाक कटी – मेयो, मेडिकल में इलाज के लिए 25 आये

नागपुर. तमाम तरह के प्रतिबंध के बाद भी मकर संक्रांति के दिन पतंगबाजों ने नायलॉन मांजा का जमकर उपयोग कर पतंग काटी, लेकिन इस पतंगबाजी में जहां मस्ती करने वाले भी जख्मी हुए, वहीं दूसरी ओर सड़क पर फंसे मांजा के कारण कई वाहन चालक भी जख्मी हो गये. मेयो और मेडिकल में करीब 25 लोग इलाज के लिए आये. जबकि प्राइवेट अस्पतालों में भी इतने ही लोगों का इलाज किया गया.

मांजा पर पहले से ही प्रतिबंध लगाया गया है. इसके बावजूद पिछले दिनों से बिक्री की जा रही है. पिछले 2 सप्ताह के भीतर इसकी वजह से 3 लोगों की मौत भी हो चुकी है. इसके बाद भी लोग नाइलॉन मांजा के उपयोग से बाज नहीं आ रहे हैं. गुरुवार को सुबह से ही सिटी के आसमान पर पतंगों ने कब्जा जमा लिया था.

पतंगों को काटने के लिए नाइलॉन मांजा ही उपयोग किया गया. लोगों की छतों से लेकर पेड़ों पर अब भी कटी पतंगें और मांजा लहरा रहा है. मेडिकल में सुबह से लेकर शाम तक 15 से अधिक लोग इलाज के लिए आये. वहीं मेयो में 7 से अधिक लोगों का इलाज किया गया. किसी के हाथ में जख्म हो गया तो किसी की उंगली कट गई. वहीं कुछ तो राह चलते भी मांजा की चपेट में आ गये. 

गाड़ी से गिरीं 2 नर्स 

वाहनों में फंसने के बाद मांजा कटता नहीं, बल्कि चालक को घसीटता है. मेडिकल की एक स्टॉफ नर्स के साथ भी यही हुआ. उसके वाहन में मांजा फंसने से वह गिर गई. उसके घुटने में चोट आई है. वहीं एक नर्स अपने पति के साथ वाहन से जा रही थी. मांजा फंसने की वजह से दोनों गिर पड़े. पति की नाक पर चोट लगने से वे लहूलुहान हो गये. वहीं 17 वर्षीय एक किशोर की उंगली कट गई, जबकि 44 वर्षीय महिला मांजा में फंसने के कारण घायल हो गई. हालांकि मेडिकल और मेयो में कोई गंभीर रूप से घायल नहीं आया. निजी अस्पतालों में भी कई लोगों ने इलाज कराया. कइयों की गर्दन में चीरा लग गया. वहीं कुछ तो गाड़ी चलाते हुए गिर पड़े. 

कुछ दिनों तक बना रहेगा खतरा 

केवल मकर संक्रांति के दिन ही नहीं, बल्कि मांजा की वजह से अगले कुछ दिनों तक खतरा बना रहेगा. पतंग कटने के बाद पेड़ों और बिजली के तार, पोल पर अटक जाती है. लेकिन जैसे-जैसे हवा चलती है, मांजा निकलकर नीचे गिर जाता. इस बीच इसकी चपटे में आने वाले घायल हो जाते हैं. यही वजह है कि अगले कुछ दिनों तक खुद को बचाए रखना जरूरी है. वाहन चलाते हुए हेलमेट के इस्तेमाल और चेहरे को ढंक लेना जरूरी है.