यहां है अवैध कब्जे का मकड़जाल, धारस्कर रोड में हर खाली जगह पर अतिक्रमण

    नागपुर: सिटी के धारस्कर रोड पर अब कब्जे का मकड़जाल नजर आने लगा है. कई दिनों से यहां पर पोस्ट ऑफिस परिसर सहित धारस्कर रोड पर अत्याधिक अतिक्रमण का नजारा दिखने लगा है. जगह-जगह ठेले खोमचे वालों ने अवैध तरीके से दूकान लगाकर व्यापार करना शुरू कर दिया है. जिसकी पूछ परख करने वाले अधिकारी भी नहीं है.

    वहीं सड़कों पर कब्जा कर दूकान लगाने वालों के कारण यहां पर हर वक्त जाम की स्थिति बन रही है. बावजूद इसके यहां पर कोई कार्रवाई नहीं की जाती है. वहीं इसके अलावा इस परिसर में 5-6 मंदिर है. जहां अनेक महिलाओं सहित नागरिकों का आना-जाना लगा रहता है. कब्जे के कारण श्रद्धालुओं को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है. इस परिसर में कोई कार्रवाई महानगरपालिका अथवा पुलिस द्वारा नहीं की जा रही है. जिसके कारण यहां नागरिकों में रोष व्याप्त है.  

    महिला जेब कतरों का डेरा

    बताया जा रहा है कि इस क्षेत्र में अधिक भीड़ होने के कारण यहां पर चोरी की शिकायतों में काफी बढ़ोतरी देखी जा रही है. संपन्न घरों की महिलाओं द्वारा इस संबंध में कोई शिकायत भी दर्ज नहीं की जाती है. मंदिरों में आने जाने वाली श्रद्धालु महिलाओं के साथ अक्सर छेड़खानी की घटनाएं भी हो रही है. यहां पर लोगों ने पुलिस गश्ती को लेकर भी सवाल उठाया है. उनका कहना हैं कि इस क्षेत्र में लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी आखिर किसकी होगी   

    दूकानदार देते हैं धमकियां

    स्थानीय लोगों का कहना हैं कि यहां पर स्थाई और अस्थाई दोनों ही तरह के अतिक्रमण है. लोगों द्वारा अगर इसका विरोध किया जाता है तो दूकानदार लोगों को धमकाते हैं. दूकानदार अपने स्टाफ को सामने लाकर निवासियों को मारने की धमकियां देते हैं. इस संबंध में बार-बार शिकायतें की जा चुकी है. पर कोई प्रतिबंधक कार्रवाई नहीं होने से इनके हौसले भी बुलंद हो चुके हैं. 

    शनिवार-रविवार भी सब ओपन 

    अब लॉकडाउन में शनिवार व रविवार को बंद रखने के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं. लेकिन प्रशासन के नियमों का पालन यहां के व्यापारियों द्वारा नहीं किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि इतवारी पोस्ट ऑफिस रोड पर एक तरफ जहां होटल्स चालू थे वहीं ठेले वालों की श्रृंखला लाइन से लगी हुई थी. यहां कोई कार्रवाई नहीं की गई जो जांच का विषय है. मामला पुलिस और स्थानीय प्रशासन के व्यापारियों से मिलीभगत होने का भी नजर आता है. कभी अगर कार्रवाई भी होती है तो वह नाम मात्र की होती है. 

    पुलिस आयुक्त करें निरीक्षण

    यहां के लोगों ने मांग की है कि इस क्षेत्र में खुद पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार आकर यहां का निरीक्षण करें. इतवारी परिसरों में जेब कटी व छेड़खानी रोकने के लिए नियमित पुलिस गश्त लगवा कर, सड़कों पर अतिक्रमण कर कब्जा करने वालों पर सख्ती से कार्रवाई की जाए. अनाधिकृत पार्किंग करने वालों की गाड़ियां जब्त करने के साथ-साथ दूकानदारों का सड़क पर रखा हुआ माल पाए जाने पर उनके ऊपर भारी जुर्माना लगाया जाए. समस्याओं से परेशान होकर स्थानीय लोग अब पलायन पर भी विचार करने लगे हैं.