Nagpur High Court

    नागपुर. हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के काफी समय से अटके चुनाव कराने के उद्देश्य से 20 जनवरी 2021 को चुनाव की घोषणा की गई थी किंतु कोरोना की दूसरी लहर शुरू होने के बाद लगातार इसे टाला जा रहा है. यहां तक कि अब हाल ही में ई-वोटिंग के माध्यम से चुनाव कराने की सहमति भी बनी थी, किंतु बार काउंसिल की ओर से विरोध किया गया. बार काउंसिल की ओर से भेजे गए नोटिस के बाद चुनाव समिति की बैठक हुई जिसके बाद अब चुनाव रद्द करने का निर्णय लिया गया.

    उल्लेखनीय है कि एचसीबीए के 16 पदों के लिए होने जा रहे चुनाव के लिए 44 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र भरा था. लंबे समय बाद चुनाव होने के कारण कोरोना की त्रासदी के बावजूद सोशल मीडिया के माध्यम से कुछ प्रत्याशियों ने चुनाव प्रचार भी शुरू किया था, किंतु अब चुनाव ही रद्द होने से तैयारियां धरी की धरी रह गई हैं. 

    चुनाव को लेकर विरोधाभास

    उल्लेखनीय है कि गत समय ही वकीलों के एक गुट ने ज्ञापन देकर चुनाव कराने का अनुरोध एसोसिएशन से किया था, जबकि वकीलों के दूसरे गुट ने कोरोना संक्रमण की स्थिति को देखते हुए चुनाव टालने की मांग की थी. चुनाव समिति की ओर से दोनों आवेदनों पर चर्चा की गई थी जिसमें चुनाव अधिकारियों की ओर से एचसीबीए के पदाधिकारियों को ही निर्णय लेने की सूचनाएं दी गई थीं. एचसीबीए पदाधिकारियों की स्वतंत्र बैठक के बाद कोरोना संक्रमण को देखते हुए ऑफलाइन चुनाव कराना संभव नहीं होने से उसी दिन आनलाइन पद्धति (ई-वोटिंग) से चुनाव कराने का एकमत से निर्णय लिया गया था. किंतु अब ई-वोटिंग से भी चुनाव नहीं होने की जानकारी उजागर की गई.