police

नागपुर. पिछले 7 वर्षों से पदोन्नति और कांधे पर 2 स्टार लगाने का इंतजार कर रहे पुलिसकर्मियों को आखिर न्याय मिला. मंगलवार को पुलिस महासंचालक कार्यालय द्वारा 2013 में ली गई विभागीय परीक्षा में उत्तीण होने वाले 1061 पुलिसकर्मियों को पदोन्नति देकर सब इंस्पेक्टर बना दिया. इसके लिए पुलिसकर्मियों को लंबी लड़ाई लड़नी पड़ी और आखिर उन्हें कोर्ट से न्याय मिला. मंगलवार को आदेश जारी होते ही इन पुलिसकर्मियों की मानों दिवाली के पूर्व ही तोहफा मिल गया.

नागपुर जिले के 48 कर्मचारियों का इसमें समावेश है. पर दुख की बात ये है कि प्रमोशन का इंतजार कर रहे कुछ कर्मचारियों के निवृत्त होने के बाद यह आदेश आए है. पिछले 7 वर्षों से यह मामला प्रलंबित रखा गया था. इस दौरान परीक्षा पास करने वाले कई कर्मचारी रिटायर हो गए.

राज्य के भूतपूर्व गृहमंत्री आर.आर. पाटिल की संकल्पना थी कि पुलिस कर्मचारी भी अधिकारी बनकर सम्मान के साथ रिटायर हो. इसीलिए 2013 में विभागीय स्तर पर परीक्षा ली गई थी. गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सभी को बधाई दी. उन्होंने कहा कि इतने बड़े पैमाने पर पहली बार कर्मचारियों को पदोन्नति दी गई है. जिन्हें प्रमोशन मिला है वो और उत्साह से काम करेंगे. सभी से उत्कृष्ट कार्य की अपेक्षा है.

इन्हें मिला प्रमोशन 

शहर पुलिस आयुक्तालय में प्रमोशन पाने वाले कर्मचारियों में राजेश राउत, शरद पवार, प्रमोद पारखी, श्यामराव कावनपुरे, राजकुमार उपाध्याय, अनिल मांगलकर, किशोर सोलव, अविनाश अक्कावार, घनश्याम तिवारी, स्टेलिन अंथोनी, अशोक गवई, किशोर डांगोरे, अनिल चौधरी, संजय खोब्रागड़े, धरमदास सावरकर, राजेश नाइक, जेवियर रास, महादेव कोरपे, हेमंतकुमार नंदेश्वर, दिलीप नागपुरे, किशोर सातोकर, रविंद्र हुमने, महावीर खोंडे, नवनाथ रायपुरे, राष्ट्रपाल सवईतुल, देवेंद्र रायबोले, संतोष पांडेय, राजेशकुमार मौर्य, चंद्रकांत पाचोड़े, प्रकाश अहिरे, शिवसागर मिश्रा, तुलसीराम राउत, अशोक तिड़के, इजराइल शरीफ, ज्ञानदेव तायड़े, देवीदास बांगड़े, विश्वास ठाकरे, जगदीश मोहिते, अब्दुल शकील शेख, शैलेंद्र ठाकुर, अरविंद मोहोड़ का समावेश है, जबकि नागपुर ग्रामीण से संजय जासुतकर, सूर्यप्रकाश मिश्रा, श्रवणकुमार तिवारी, देवेंद्र सोनवले, विनायक नागुलवार, सुनील अंबरते और देवेंद्र गणवीर को पदोन्नति दी गई है.