प्रतीकात्मक
प्रतीकात्मक

  • छत्तीसगढ़ ने खोला बॉर्डर, तेलंगाना और MP का इंतजार
  • टैक्सी से मध्य प्रदेश जा रहे यात्री

नागपुर. कोरोना काल के लंबे अंतराल के बाद अब धीरे-धीरे सिटी की स्थिति सामान्य हो रही है. अनलॉक की प्रक्रिया के बाद अब तेजी से इंटर स्टेट यात्राएं भी अनलॉक हो रही हैं. कई महीनों से अपनी यात्रा रोक रहे यात्री अब अपने काम और अपने परिवार से मिलने निकल रहे हैं. इंटर स्टेट बसों के लिए एसटी की सेवा 10 जून से शुरू हो गई है. छत्तीसगढ़ ने एसटी की बसों को प्रवेश की अनुमति दे दी है. वहीं मध्य प्रदेश और तेलंगाना ने अभी भी महाराष्ट्र की बसों के राज्य में प्रवेश पर रोक लगा रखी है लेकिन इसका भी तोड़ निकाल लिया गया है. जहां एसटी और प्राइवेट बसों को बंद कर दिया गया है, वहां यात्रियों को उनके मुकाम तक पहुंचाने के लिए प्राइवेट बस संचालक टैक्सी का इस्तेमाल कर रहे हैं. सिटी से अब सभी जगह के लिए बस और टैक्सी की सुविधा शुरू हो गई हैं.

रात में निकल रहीं टैक्सी

जिन राज्यों में महाराष्ट्र की बसों पर रोक लगा रखी है वहां पर गीतांजलि टॉकीज के पास से टैक्सी भर-भर कर यात्रियों को पहुंचाया जा रहा है जिनमें मध्य प्रदेश के भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर समेत अन्य शहर शामिल हैं. इसके अलावा हैदराबाद, बनारस, लखनऊ समेत अन्य शहरों के लिए भी ट्रैवल एजेंसी वाले टैक्सी चला रहे हैं. टैक्सी से मध्य प्रदेश और तेलंगाना जाने का दौर दिन में भी चल रहा है.  

अधिक किराया देकर जाने को मजबूर 

बसें बंद होने के कारण यात्रियों को अधिक किराया देकर सफर करना पड़ रहा है. सबसे ज्यादा यात्री मध्य प्रदेश के हैं. मध्य प्रदेश जाने वाले यात्रियों को 2,500 से 4,000 रुपए तक किराया देना पड़ रहा है. वहीं जो बस हैदराबाद के लिए चल रही है उसके यात्री भी अधिक संख्या में मिल रहे हैं. हैदराबाद ने सीमाओं पर बसों के प्रवेश से रोक लगा दी है लेकिन इसके बाद भी प्राइवेट बस और टैक्सी  से यात्रियों को पहुंचाया जा रहा है. 

तेलंगाना में बढ़ा लॉकडाउन

इधर, तेलंगाना, हैदराबाद जाने के लिए यात्रियों को अभी भी इंतजार करना पड़ेगा. हैदराबाद जाने के लिए अभी एक भी बस नहीं है. तेलंगाना सरकार ने 19 जून तक लॉकडाउन बढ़ा दिया है. ऐसे में अब यात्रियों को ट्रेन और हवाई जहाज से ही यात्रा करनी पड़ेगी. वहीं प्राइवेट बस संचालक टैक्सी में यात्रियों को पहुंचा रहे हैं लेकिन किराया तीन गुना बढ़ा दिया गया है.  

मप्र में लॉकडाउन खुला लेकिन सीमा सील

ट्रैवल एजेंसी का कहना है कि मध्य प्रदेश के कई जिलों में लॉकडाउन खुल चुका है लेकिन प्रदेश के परिवहन मंत्रालय ने अब तक बसों को आने की अनुमति नहीं दी है. एसटी बस स्टैंड मैनेजमेंट की मानें तो जैसे ही मध्य प्रदेश से बसों को भेजने की अनुमति आ जाएगी, वैसे ही एसटी की भी बसें कई रूटों पर शुरू कर दी जाएंगी. फिलहाल अभी हमने अपने स्तर पर तैयारी पूरी कर के रखी हुई है. आदेश का इंतजार है.  

छग में स्थिति सामान्य

ताजा स्थिति में अभी छत्तीसगढ़ में स्थिति सामान्य है. महाराष्ट्र बॉर्डर बाघ नदी को खोल दिया गया है जिससे एसटी की बसों को भी प्रवेश दिया जा रहा है. छत्तीसगढ़ में लगभग सभी जिलों में लॉकडाउन खोल दिया गया है जिससे प्राइवेट बसों से लेकर एसटी की बसें भी आसानी से यात्रियों को लाना-ले जाना कर रही हैं. यात्रियों को जल्द ही अन्य राज्यों में भी यात्रा करने की सुविधा मिल सकेगी.