JEE Advance ने बढ़ाई छात्रों की चिंताएं, 3 जुलाई को होनी थी परीक्षा, स्थगित होने से बढ़ी परेशानी

    • IIT में एडमिशन के लिए अब करना होगा और इंतजार

    नागपुर. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (आईआईटी) में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा जेईई एडवांस्ड आखिरकार कोरोना संक्रमण की भेंट चढ़ ही गई. इस आदेश से ही छात्रों की चिंता अब और बढ़ गई है. आईआईटी में एडमिशन के ख्वाब देख रहे जिले के छात्रों को अब और इंतजार करना होगा. लगातार स्थगित हो रही परीक्षाओं की लिस्ट में अब जेईई एडवांस 2021 भी शामिल हो गई.

    यह परीक्षा 3 जुलाई को होनी थी. लेकिन जेईई मेन का तीसरा चरण के रद्द होने के कारण अब इसे भी स्थगित कर दिया गया है. बार-बार एग्जाम कैंसल होने की वजह से छात्रों को मानसिक रुप से परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है. लॉकडाउन के बीच घरों में रहकर पढ़ाई करने वाले छात्रों को अब आईआईटी में प्रवेश के लिए और इंतजार करना पड़ सकता है. 

    मेन में स्कोर के बाद ही एडवांस

    जेईई मेन के टलने के बाद से ही जेईई एडवांस्ड के स्थगित होने की संभावना बढ़ गई थी क्योंकि जेईई मेन में अच्छा प्रदर्शन करने वाले छात्रों को ही जेईई एडवांस्ड देने का मौका मिलता है. ऐसे में जब मेन की परीक्षा ही नहीं हुई तो एडवांस कराना संभव नहीं था. ऐसे में बुधवार को जेईई एडवांस को भी स्थगित करने का आदेश जारी कर दिया गया.

    इस बार भी पात्रता मानदंड में छूट

    जेईई एडवांस परीक्षा के लिए 12वीं कक्षा में 75 फीसदी अंक के निर्धारित पात्रता मानदंड में इस बार भी छूट दी गई है. पिछले वर्ष भी कोरोना के चलते इस नियम से विद्यार्थियों को छूट दी गई थी. 2020 से पहले तक जेईई एडवांस्ड मेरिट नियम के तहत आईआईटी में दाखिले के लिए 12वीं में न्यूनतम 75 फीसदी अंक या क्वॉलिफाई करने वाली परीक्षा की रैंकिंग में टॉप 20 पर्सेंटाइल होना जरूरी होता था. इस बार परीक्षा आईआईटी खड़गपुर द्वारा आयोजित कराई जाएगी. अब छात्रों को नई तारीख का इंतजार है.