Parking
File Photo

  • क्लीनिकों, दूकानों की भीड़ ने कब्जाया रामदासपेठ
  • 20 फुट की रोड पर डबल रो पार्किंग

नागपुर. मध्य भारत में प्रसिद्ध नागपुर के स्वास्थ्य व्यवसाय के हब रामदासपेठ में आजकल वाहनों की अवैध पार्किंग इस कदर बढ़ी है कि यहां से गुजरने वाले वाहनों के लिए कहीं-कहीं सिर्फ छह फुट की जगह ही बची है. फुटपाथ को छोड़कर यहां पर मार्ग की चौड़ाई करीब बीच फुट है लेकिन कारों की डबल ट्रिपल रो के चलते रोड का करीब 70 प्रतिशत हिस्सा अवैध पार्किंग में चला जाता है. दिन के समय जब व्यवासायिक गतिविधियां तेज होती हैं तब यहां से होकर गुजरने वाले वाहनों को बड़ी मुश्किल से पास होना पड़ता है.

इस समस्या से जुड़ा हुआ एक और नमूना यह है कि सेंट्रल बाजार रोड में अधिकृत पार्किंग के लिए बनाई गई बनाई गई जगह पूरी तरह खाली पड़ी रहती है. यहां पर कभी कभार कोई एकाध वाहन मुश्किल से खड़ा दिखता है. नागरिकों को यातायात की इस समस्या का रोजाना सामना करना पड़ रहा है.

सर्वविदित है कि नागपुर का रामदासपेठ राज्य और दूसरे राज्यों में विभिन्न इलाज के लिए मशहूर है. इसलिए अपने वाहनों हजारों लोग यहां इलाज कराने आते हैं जिनमें सर्वाधिक सर्वाधिक मरीज ऑटो रिक्शे से यहां पहुंचते हैं. इसके अलावा किराये और निजी एक हजार कारों से लोग यहां आते हैं. हर वाहन धारक अस्पताल के पास ही वाहन खड़ा करना पसंद करता है. यहां परहुंचने वाले 95 प्रतिशत डॉक्टर अपनी कारों से आते हैं और वाहन यहीं पर खड़ा कर देते हैं. ऐसे डॉक्टरों की संख्या में बहुत ज्यादा है जो अपनी कार से किसी भी अस्पताल में  अनुबंधित बुलावे पर कुछ ही देर के लिए या फिर नियमित रूप से एक घंटे के लिए आते हैं. इसके अलावा शहर के कई लोग लापरवाही के चलते डबल रो पार्क कर चले जाते हैं. लॉकडाउन में इन दिनों एमपी की ओर से मरीजों का आनाजाना कम है, इसके बावजूद यहां पर भीड़ देखी जा रही है.

अधिकृत पार्किंग पड़ी खाली
रामदाससपेठ से होकर अभ्यंकर नगर तक जाने वाले सेंट्रल बाजार रोड में पार्किंग की समस्या को देखते हुए मनपा ने इस मार्ग पर होटल तुली इंपीरियल सामने से अधकृत पार्किंग स्थल बनाया है लेकिन यहां पर मुश्किल से इक्का-दुक्का वाहन की खड़े होते हैं. ध्यान देने योग्य है कि शहर में अनेक स्थानों पर अधिकृत पार्किंग होने के बावजूद अवैध पार्किंग की जा रही है. परेशान नागरिक यातायात पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर रहे हैं.