Home quarantine stickers
File Photo

    नागपुर. कोरोना के लगातार बढ़ते संक्रमण से स्थिति चिंताजनक होती जा रही है. यदि समय पर उपाय नहीं किए गए तो भविष्य में गंभीर परिणाम होने से इंकार नहीं किया जा सकता है. अत: होम क्वारंटाइन मरीजों पर ‘वॉच’ रखने तथा कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग बढ़ाकर समय के भीतर टेस्ट कराने की निर्देश स्वास्थ्य समिति सभापति महेश महाजन ने दिए. मनपा मुख्यालय में स्वास्थ्य समिति की बैठक ली गई. वैद्यकीय अधिकारी डॉ. संजय चिलकर, डॉ. प्रदीप दासरवार, कार्यकारी अभियंता सोनाली चव्हाण, सहायक वैद्यकीय अधिकारी डॉ. विजय जोशी, डॉ. गजेन्द्र महल्ले उपस्थित थे.

    आयुष में 40 बेड की व्यवस्था

    चर्चा के दौरान अधिकारियों ने बताया कि पांचपावली सूतिका गृह, इंदिरा गांधी अस्पताल, आइसोलेशन अस्पताल को कोविड अस्पताल के रूप में संचालित किया जा रहा है. आयुष अस्पताल में अगले 2 दिनों के भीतर 40 बेड की व्यवस्था की जाएगी. जिन मरीजों को वेंटिलेटर की आवश्यकता नहीं है उन्हें इस अस्पताल में भर्ती कराया जा सकता है. इसके अलावा मेडिकल, मेयो अस्पताल में भी मरीजों को भेजा जाएगा. मनपा के अस्पताल में आनेवाले गंभीर मरीजों को मेडिकल और मेयो में भेजे जाने की जानकारी भी अधिकारियों ने दी. 

    मरीजों को दूसरे दिन मिले दवा

    कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अधिकांश मरीजों को होम क्वारंटाइन की सलाह दी जाती है किंतु होम क्वारंटाइन के नियमों का पालन होता है या नहीं, इसे सुनिश्चित किया जाना चाहिए. पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद दूसरे ही दिन मरीजों को दवा दी जानी चाहिए. कोरोना नियंत्रण कक्ष से रिक्त बेड की परिपूर्ण जानकारी भी उपलब्ध कराने के निर्देश सभापति ने दिए.