arrest

  • क्राइम ब्रांच यूनिट 4 को मिली थी जानकारी

नागपुर. लातुर के सनसनीखेज हवाला लूट प्रकरण में पिछले 3 वर्षों से फरार आरोपी लतीफ को क्राइम ब्रांच के यूनिट 4 ने गिरफ्तार कर लिया. फिल्मी स्टाइल में पुलिस ने कार्रवाई को अंजाम दिया. बांगड़े प्लाट, शांतिनगर निवासी अब्दुल लतीफ अब्दुल रज्जाक (44) के खिलाफ लगभग 2 दर्जन मामले दर्ज है. चोरी, लूटपाट, फिरौती वसूली, दंगा, गांजा और शराब की तस्करी में वह सक्रिय था. 2017 में उसे पुलिस ने गांजा तस्करी के मामले में पकड़ा था. जमानत पर बाहर आते ही वह नागपुर से रफूचक्कर हो गया.

अपराधियों की गैंग में शामिल हुआ. 20 अगस्त 2017 को लातुर में एक हवाला व्यापारी के संस्थान में लतीफ सहित 10 आरोपियों ने पुलिस बनकर छापा मारा. बताया जाता है कि वहां से करीब 4 करोड़ रुपये लूटे गए थे, लेकिन पुलिस के रिकार्ड में केवल 30 लाख की एंट्री हुई. इस मामले में पुलिस ने अन्य आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया और उन्हें 3 वर्ष की सजा भी हुई, लेकिन लतीफ लगातार पुलिस की गिरफ्त से बचा हुआ था. बुधवार की सुबह इंस्पेक्टर अशोक मेश्राम को जानकारी मिली कि लतीफ शांतिनगर परिसर में घूम रहा है.

खबर मिलते ही पुलिस दस्ते ने परिसर में छापा मारा. दस्ते को देखते ही लतीफ अपनी एम.एच.31-ए.एच.6461 नंबर की कार में बैठकर भागने लगा, लेकिन तब तक कार को चारों तरफ से घेरा जा चुका था. तलाशी में एक धारदार हथियार भी मिला. लतीफ शांतिनगर में सक्रिय चंदाबाई के लिए शराब और गांजा तस्करी का काम करता था. डीआईजी निलेश भरणे और डीसीपी गजानन राजमाने के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर अशोक मेश्राम, एपीआई किरण चौगले, कांस्टेबल आशीष क्षिरसागर, सचिन तुमसरे और दीपक झाड़े ने कार्रवाई को अंजाम दिया.