arrested

  • पुलिस कस्टडी से भागा था, 14 मामलों में था फरार

नागपुर. क्राइम ब्रांच के यूनिट 2 ने कड़ी मशक्कत के बाद शहर के चर्चित सेंधमार कुंजारामवाड़ी निवासी नरेश अंकालु महिलांगे (25) को राजनांदगांव से गिरफ्तार किया. महिलांगे को पुलिस ने चोरी के मामले में पकड़ा था, लेकिन 2 महीने पहले वह पुलिस की कस्टडी से भाग निकला था. नरेश की गिरफ्तारी के बाद उसके साथी खसाला, कामठी रोड निवासी मुकेश रघुनाथ जांभुलकर (25) का पता चला.

पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर लिया और दोनों से मोटी रकम जब्त की गई. नरेश 14 मामलों में फरार था. कई मामलों में नरेश फरार था. ऐसे में हुड़केश्वर थाने में दर्ज एक मामले में उसे गिरफ्तार किया गया. जांच के दौरान उसके कोविड पॉजिटिव होने का पता चला था. इसीलिए उसे मेयो अस्पताल में भर्ती किया गया था. 9 नवंबर को वह उपचार के दौरान अस्पताल से फरार हो गया. तब से पुलिस उसकी तलाश में जुटी थी. काफी मशक्कत के बाद उसके राजनांदगांव में होने की जानकारी मिली. बिना समय गवाएं पुलिस दस्ता राजनांदगांव पहुंचा और छुईखदान परिसर से उसे गिरफ्तार किया.

3.85 लाख रुपये जब्त

चोरी के माल के बारे में पूछताछ करने पर मुकेश के पास होने की जानकारी दी. पुलिस ने मुकेश को भी गिरफ्तार कर लिया. दोनों से 3.85 लाख रुपये जब्त किए गए. उससे लकड़गंज थाने में दर्ज 2 मामलों का खुलासा हुआ है. शहर, ग्रामीण और गोंदिया जिले में दर्ज 14 मामलों में नरेश फरार था. उसके खिलाफ चोरी के 25 से ज्यादा मामले दर्ज होने की जानकारी मिली है.

डीआईजी सुनील फुलारी, डीसीपी गजानन राजमाने और इंस्पेक्टर किशोर पर्वते के मार्गदर्शन में सब इंस्पेक्टर पुरुषोत्तम मोहेकर, लक्ष्मीछाया तांबुसकर, बलराम झाड़ोकर, एएसआई मोहन शाहू, नीनाजी तायड़े, हेड कांस्टेबल संतोष मदनकर, रामनरेश यादव, अनिल पाटिल, रविकुमार शाहू, सुहास शिंगणे, कांस्टेबल शेषराव राउत, योगेश गुप्ता, सूरज भोंगाड़े, आशीष पाटिल और कमलेश गहलोद ने कार्रवाई को अंजाम दिया.