मारिस कॉलेज से यूनिवर्सिटी डीपी रोड, मेट्रो की मनमानी भरा अड़ंगा

  • बिन अनुमति बदला नक्शा, आंदोलन की तैयारी में कांग्रेस

नागपुर. शुरू से ही महामेट्रो पर मनमानी के आरोप लगते रहे हैं. अजनी चौक से एयरापोर्ट चौक तक बने डबल डेकर ब्रिज को जारी अड़ंगेबाजी ने इस साबित भी कर दिया. यह जनहित कार्य था. अब ऐसे अन्य प्रोजेक्ट भी सामने आ रहा है जिनमें मेट्रो के अड़िलय रवैये ने जनहित कार्यों पर बैरिकेट का काम कर दिया है. इनमें से एक है बहुप्रतिक्षित और बहुउपयोगी मॉरिस कालेज से यूनिवर्सिटी चौक लगभग बनकर तैयार डीपी रोड. 

जाओ पहले टाइन प्लानिंग की अनुमति लाओ 

इस डीपी रोड पर मारिस कॉलेज प्वाइंट पर महामेट्रो ने मनमर्जी से निर्माण कार्य कर लिया और रोड का नक्शा ही बदल दिया. मेट्रो ने इस प्वाइंट पर अपने प्लान में ड्राप एंड गो निर्माणकार्य को जोड़ दिया है. इसके लिए मेट्रो ने इसके लिए महानगर पालिका या टाउन प्लानिंग विभाग से भी अनुमति लेना जरूरी नहीं समझा. उसने सीधे मनपा को डीपी रोड मोड़ने को निर्देश दिये दिये. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मनपा ने महामेट्रो को बदले हुए नक्शे को पहले टाउन प्लानिंग से पास कराने का कहा है जो अभी तक क्लीयर नहीं हो पाया है. इसलिए बाकी निर्माण कार्य अटका पड़ा है.

… तो 15 दिन में हो सकता है रोड शुरू

डीपी रोड का केवल डामरीकरण ही बाकी है जो 10 से 12 दिन में पूरा किया जा सकता है. यानि ज्यादा से ज्यादा 15 दिनों में यह डीपी रोड शहरवासियों के लिए उपयोग में लाया जा सकता है. इससे सीताबर्डी चौक पर वाहनों का दबाव काफी कम हो जायेगा. क्योंकि आरबीआई, लोहा पुल की ओर से सिविल लाइन्स और अमरावती रोड की ओर जाने वाले सैकड़ों वाहन इसी डीपी रोड से मुड़ जायेंगे. यही सहुलियत दूसरी ओर से आने वाले वाहनचालकों को भी मिलेगी. सबसे खास बात कि यात्री बसों को सीताबर्डी चौक पर आना ही नहीं पड़ेगा. 

हर खुली जगह कब्जा : MLA विकास ठाकरे

पश्चिम नागपुर के विधायक विकास ठाकरे ने कहा कि महामेट्रो निरंकुश हो चुकी है. वह शहर के भीतर हर खुली जगह पर अपना कब्जा जमाना चाहती है. फिर चाहे जनहित कार्यों को भी ठेंगा दिखाना पड़े. उक्त डीपी रोड इसका बेहतरीन उदाहरण है. मेट्रो ने अलग-अलग कम्पनियों को काम सौंप दिये है और हर कम्पनी अपनी मर्जी से काम कर रही है. इन कम्पनियों पर मेट्रो के वरिष्ठ अधिकारियों का कोई नियंत्रण नहीं है. 

विस में उठायेंगे मुद्दा, करेंगे घेराव

ठाकरे ने कहा कि यूं तो शहर में मेट्रो हवा में चल रही है लेकिन कम्पनियां जमीन पर मनमानी से कब्जा जमा रही है. इस निरंकुशता पर रोक जरूरी है. मैंने तय किया है कि अगले विधानसभा सत्र में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव के तहत यह मुद्दा जोर-शोर से उठाया जायेगा. लेकिन इससे पहले मारिस कालेज डीपी रोड के लिए शहर कांग्रेस इस मनमानी के खिलाफम महामेट्रो के खिलाफ आंदोलन करेगी. कांग्रेस के सैकड़ों कार्यकर्ता मेट्रो का घेराव करेंगे.