Remdesivir Injection
Representational Pic

  • कोरोना मरीजों को मिल रही नि:शुल्क सेवा

नागपुर. केंद्र व राज्य सरकार के अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों का संपूर्ण उपचार नि:शुल्क किया जा रहा है. औषधोपचार के दौरान निधि की आवश्यकता होने पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था, शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय, मेयो आदि शासकीय अस्पतालों को निधि की उपलब्धता के लिए तकनीकी व प्रशासकीय मान्यता के लिए जिलाधिकारी कार्यालय को प्रस्ताव भेजना आवश्यक है. इसके अनुसार ही निधी उपलब्ध कराई जाएगी.

रेमडिसिवीर इंजेक्शन की आपूर्ति की उपलब्धता शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व अस्पताल, इंदिरा गांधी शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व अस्पताल, लता मंगेशकर अस्पताल, शालीनीताई मेघे अस्पताल व अनुसंधान केंद्र को की गई है. साथ ही शालीनीताई मेघे अस्पताल व अनुसंधान केंद्र को रेमडिसिवीर इंजेक्शन की खरीदी के लिए खर्च की प्रतिपूर्ति भी दी गई है. इसके अलावा अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था द्वारा टैब फेविपिरेवीर, एन्टिजेन टेस्ट, आरटी पीसीआर टेस्ट की आपूर्ति की गई है.

राज्य सरकार की इन संस्थाओं को आवश्यक निधि, सामग्री उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समिति गठित की गई है. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्था की ओर से समिति को रेमडिसिवीर इंजेक्शन की खरीदी के लिए अनुदान उपलब्ध कराने या खर्च की प्रतिपूर्ति का कोई भी प्रस्ताव नहीं मिलने की जानकारी जिला शल्य चिकित्सक डा. डी. वी. पातुरकर ने दी. कोविड-19 मरीजों के लिए आवश्यक रेमडिसिवीर इंजेक्शन की मांगे के अनुसार आपूर्ति पर्याप्त है. इंदिरा गांधी शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय में 300 इंजेक्शन व शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय में 200 इंजेक्शन उपलब्ध है. मरीजों को नि:शुल्क सेवा दी जा रही है.