Robbery

    नागपुर. वाठोड़ा थानांतर्गत पता पूछने के बहाने चाकू की नोंक पर 70,500 रुपये लूटने का मामला दर्ज किया गया. लेकिन जांच में पता चला कि फरियादी ने ऑनलाइन 3 पत्ती गेम के चक्कर में कम्पनी के 58,000 रुपये गंवा दिये थे. गबन का खुलासा होने के डर से उसने 3 युवकों द्वारा चाकू की नोक पर लूट का नाटक रचा. आरोपी का नाम दुर्गावती चौक निवासी मनोज फकीरचंद मोंदेकर (32) है और वह राजेश सेल्स कम्पनी में कलेक्शन का काम करता है.

    उसने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई की कि दोपहर करीब 1.45 बजे वह कलेक्शन की रकम लेकर चांदमारी सीमेंट रोड स्थित सुलभ शौचालय के पास से गुजर रहा था. उसके पास 70,500 रुपये थे. इसी दौरान बाइक पर सवार 3 युवकों ने उन्हें पता पूछने के लिए रोका. इससे पहले कि मनोज कुछ समझ पाते, युवकों ने चाकू से हमले का डर दिखाकर उनके पास से कलेक्शन की रकम लूट ली और भाग गये. पुलिस मनोज की शिकायत पर 3 अज्ञात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी.

    बार-बार बदल रहा था बयान

    पुलिस को शुरू से ही मनोज पर शक था क्योंकि वह घटना को लेकर बार-बार बयान बदल रहा था. ऐसे में पुलिस की हल्की से सख्ती में ही उसने सच उगल दिया. मनोज ने पुलिस को बताया कि उसे ऑनलाइन 3 पत्ती खेलने की लत है. 13 जून को राधेकृष्ण ट्रेडर्स के यहां से कलेक्ट किये गये 58,000 रुपये अपनी कम्पनी में जमा नहीं किये. बल्कि यूको बैंक के अपने खाते में डिपॉजिट कर दिये और ऑनलाइन 3 पत्ती खेलने के लिए भुगतान करता चला गया. उसने पूरे 58,000 रुपये खर्च कर दिये. पुलिस ने उसके मोबाइल से ऑनलाइन लेनदेन की जांच में बयान सही साबित हुआ. इस गबन के आरोप से बचने के लिए ही मनोज ने चाकू की नोंक पर 3 युवकों द्वारा लूट की झूठी कहानी बनाई और पुलिस में झूठी शिकायत भी दर्ज कराई.

    प्राथमिक जांच और बयान के आधार पर पुलिस ने मनोज के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी. यह कार्रवाई अपर पुलिस आयुक्त सुनील फुलारी डीसीपी सारंग आव्हाड, एसीपी भीमानंद नलावडे के मार्गदर्शन में पीआई संजय अढाउ, एपीआई विजय कसोधन, अतुल इंगोले, दीपककुमार चोले, युवानंद कडू, सचिन तुमसरे, अविनाश ठाकुर, विलास विंचुलकर, लीलाधर भेंडारकर, श्रीकांत मारवाडे आदि द्वारा पूरी की गई.