Santosh Ambekar

  • फर्जी दस्तावेजों से हड़पी व्यापारी की जमीन

नागपुर. शहर के चर्चित गैंगस्टर संतोष आंबेकर और उसकी गैंग पर पुलिस ने और 1 मोका लगा दिया है. यह मोका धोखाधड़ी के मामले के चलते लगाया गया. आंबेकर के अलावा उसका भांजा निलेश ज्ञानेश्वर केदार (34) और अन्य 4 भी इस प्रकरण में आरोपी है. पुलिस ने मामा-भांजे के अलावा प्रवीण नामक आरोपी को गिरफ्तार किया. अन्य 3 की तलाश की जा रही है.

वर्धमाननगर निवासी विकास रामविलास जैन (49) अनाज व्यापारी है. कामठी तहसील के वड़ोदा गांव में उनकी 1.16 हेक्टेयर जमीन है. इस जमीन पर गोदाम बनाने के लिए उन्होंने तलाठी से 23 अक्टूबर 2019 को नया सातबारा बनवाया. तब उन्हें जानकारी मिली कि कुछ लोगों ने उनकी जमीन के फर्जी दस्तावेज तैयार करके 7 फरवरी 2015 को जमीन बेच दी है.

जैन ने कामठी के निबंधक कार्यालय में जांच की. पता चला कि अपराधी संतोष आंबेकर ने अपने साथियों की मदद लेकर जैन की जगह की बोगस व्यक्ति को खड़ाकर जमीन अपने रिश्तेदार नितेश माने के नाम पर करवा ली है.

उन्होंने मामले की शिकायत पुलिस से की. पुलिस ने आंबेकर सहित 6 आरोपियों के खिलाफ विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था. प्रकरण की जांच क्राइम ब्रांच यूनिट 5 के इंस्पेक्टर विनोद पाटिल ने की. संतोष और निलेश को गिरफ्तार कर पूछताछ करने पर अन्य आरोपियों के नाम सामने आए. घर की तलाशी में फर्जी तरीके से करवाई गई रजिस्ट्री के दस्तावेज भी मिले. आंबेकर ने धोखाधड़ी कर जमीन हड़पने के लिए नई गैंग बनाई थी.

इस गैंग में शामिल आरोपियों का आपराधिक रिकार्ड खंगालने पर 10 वर्षों में 26 मामले दर्ज होने की जानकारी सामने आई. इसीलिए मोका के तहत नया मामला दर्ज किया गया. आंबेकर के खिलाफ शहर में कई गंभीर मामले दर्ज है, लेकिन इस बार पुलिस ने उसकी कमर तोड़ दी है. डीआईजी सुनील फुलारी और डीसीपी गजानन राजमाने के मार्गदर्शन में एसीपी सुधीर नंदनवार मामले की जांच कर रहे है.