Smart City, Nagpur

  • केंद्रीय आवास और शहरी मंत्रालय द्वारा 'स्मार्ट सिटीज अवॉर्ड' घोषित

नागपुर. ऑरेंज सिटी स्मार्ट सिटी की ओर तेजी से बढ़ रहा है. शहर में कई ऐसे कार्य हो रहे हैं, जो कि शहर को स्मार्ट सिटी की पंक्ति में खड़े करते हैं लेकिन इसके बावजूद केंद्र सरकार के गृह और शहरी व्यवहार मंत्रालय के स्मार्ट सिटी मिशन अंतर्गत ली गई, इंडिया स्मार्ट सिटीज अवॉर्ड स्पर्धा में शहर को पहले 100 में भी स्थान नहीं मिल पाया.

इसमें विशेष यह है कि इंदौर व सूरत ही ऐसे दो शहर हैं जिसे सर्वोत्तम तय किया गया है. उत्तर प्रदेश राज्य गट तो कल्याण-डोबिवली महापालिका ने कोरोना इनोवेशन गट में स्थान मारा है.

स्मार्ट सिटी मिशन को 6 वर्ष होने के उपलक्ष्य में इन पुरस्कारों की घोषणा की गई है. इसमें केंद्रीय गृह और शहरी व्यवहार मंत्रालय द्वारा पहली बार ही स्मार्ट सिटी में उनकी भूमिका को देखते हुए राज्यों द्वारा किये गए कार्यों को लेकर यह पुरस्कार दिये गए हैं.

नागपुर शहर में नागपुर स्मार्ट एंड सस्टेनेबल सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के (एनएसएसडीसीएल) माध्यम से अनेक प्रकल्प चलाये जा रहे हैं. पारडी, भरतवाड़ा और पुनापुर में 1,730 एकड़ जमीन पर विविध प्रकल्पों के काम शुरू हैं. इसके बावजूद इस पुरस्कार की दौड़ में नागपुर को स्थान नहीं मिला.