इस बार कम मेहरबान हुए इंद्रदेव

  • 16.5 प्रतिशत संभाग में कम हुई बारिश
  • 93.5 प्रतिशत बरसे बादल

नागपुर. इस वर्ष मौसम विभाग की बारिश का पूर्वानुमान करीब-करीब सही साबित हो रहा है. राज्य के अन्य संभागों की तुलना में नागपुर में इस वर्ष यह आंकड़ा 50-50 का रहा. नागपुर संभाग के अंतर्गत आनेवाले वर्धा, चंद्रपुर और गड़चिरोली में जहां अभी तक करीब 80 प्रतिशत, तो वहीं नागपुर, भंडारा और गोंदिया में 100 प्रतिशत से ज्यादा बारिश दर्ज की गई.

गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष बारिश में 16.5 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई. नागपुर में 19 अक्टूबर तक ( 998.4) 104.7 मिमी., भंडारा में (1211) 101.7 और गोंदिया में (1290.4) 110 प्रतिशत बारिश दर्ज की गई, जबकि वर्धा में (762.8) 84.7, चंद्रपुर (890.7) 79.5 और गड़चिरोली में (1055.7) 81.5 प्रतिशत बारिश हुई. सन 2019 में आज तक 1216.1 मिमी बारिश हुई थी, जबकि इस वर्ष 1033.5 प्रतिशत ही बारिश हुई.

बांधों की स्थिति संतोषजनक

इंद्रदेव की कृपादृष्टि से संभाग में बांधों की स्थिति भी संतोषजनक है. नागपुर जिले के प्रमुख बांधों में शामिल तोतलाडोह (98.61), कामठीखैरी में 100 और लोअर नांद वणा में 100 प्रतिशत जलसंग्रह हुआ है. वहीं गोंदिया के इरियाडोह में 86.50, सिरपुर में 90.96 और कालीसरार में 76.75 प्रतिशत जलसंग्रह है.

इसी तरह वर्धा के धाम में 100, लोअर वर्धा 100 और बोर में 99.74 प्रतिशत पानी है. जबकि भंडारा के बावनथड़ी में 96.02, गोसीखुर्द में 70 और चंद्रपुर के इरई में 77.27 व गड़चिरोली के विना में 42.20 प्रतिशत जलसंग्रह है. हालांकि इस दौरान अतिवृष्टि, अनियमित बारिश व लौटते मानसून की बारिश से फसलों का व्यापक नुकसान हुआ और किसानों के समक्ष एक बार फिर आर्थिक संकटों ने सिर उठा लिया है.