विवि की स्वायत्तता पर अतिक्रमण नहीं

  • उदय सामंत ने संस्कृत विवि को दी भेंट

नागपुर. उच्च व तकनीकी शिक्षा मंत्री उदय सामंत ने कहा कि राज्य के सभी विश्वविद्यालयों में परीक्षा के दौरान सहयोग के लिए ही दौरा किया जा रहा है. परीक्षा लेते समय कर्मचारियों को किसी भी तरह की परेशानी न आये.

साथ ही समन्वय बना रहे. इसके लिए ही राज्यभर के विश्वविद्यालयों में जाकर परीक्षा की तैयारियों के संबंध में समीक्षा की जा रही है. इन दौरों के माध्यम से विश्वविद्यालयों की स्वायत्तता पर अतिक्रमण करने का कोई विचार नहीं है. मंगलवार को सामंत ने कवि कुलगुरू कालिदास संस्कृत विवि रामटेक में भेंट देकर परीक्षा के संबंध में समीक्षा की.

उन्होंने विवि द्वारा किये जा रहे कार्यों की प्रशंसा की. संस्कृत विवि द्वारा १२२५ विद्यार्थियों के लिए १ ते १3 अक्टूबर के बीच ऑनलाईन पद्धति से परीक्षा ली जाएगी. अंतिम वर्ष के जिन छात्रों को ऑनलाईन परीक्षा देने में दिक्कतें आएगी. उनके लिए उसी जिले के केंद्र पर दोबारा परीक्षा ली जाएगी. एक भी विद्यार्थी परीक्षा से वंचित न रहे, इस ओर भी गंभीरता से ध्यान देना होगा. उन्होंने विवि में लड़कियों के होस्टल के लिए जगह और निधि उपलब्ध कराने का भी आश्वासन दिया. बैठक में विधायक आशीष जयस्वाल, उपकुलपति प्रो. श्रीनिवास वरखेडी, कुलसचिव प्रो. विजयकुमार उपस्थित थे.

दिव्यांग छात्रों को मिलेगी विशेष सुविधा
आरटीएम नागपुर विवि द्वारा १ से १८ अक्टूबर तक अंतिम वर्ष की ऑनलाईन बहुपर्यायी पद्धति से परीक्षा ली जाएगी. इसके लिए सभी तैयारियां कर ली गई है. विवि ने दिव्यांग छात्रों की सुविधा के लिए रायटर देने की व्यवस्था की है. वहीं अन्य छात्रों के लिए जहां 1 घंटे की परीक्षा होगी, वहीं दिव्यांग छात्रों को 1.3 घंटे दिया जाएगा.

परीक्षा एक दिन में चार चरणों में ली जाएगी. सुबह ९.3० से १०.3० बजे तक वाणिज्य संकाय, सुबह ११.3० से दोपहर १२.3० बजे तक मानव्यशास्त्र संकाय, दोपहर १.30 से २.3० बजे तक विज्ञान संकाय अरुर दोपहर 3.30 से ४.3० बजे तक अभियांत्रिकी संकाय की परीक्षा ली जाएगी. परीक्षा में ७०000 विद्यार्थी परीक्षा हिस्सा लेगे. विवि ने परीक्षा के लिए एेप तैयार किया है. इसी एेप पर प्रश्न भेजे जाएगे. परीक्षा में अनेक दिव्यांग छात्र शामिल होते हैं. लेकिन उन्हें राइटर मिलने से अब कोई दिक्कत नहीं होगी.