Nagpur Corona Update

  • 4,317 अस्पताल में भर्ती
  • 11,106 होम क्वारंटाइन

नागपुर. सिटी सहित पूरे जिले में अब कोरोना महामारी संभल नहीं पा रही है. शनिवार को दैनिक पॉजिटिव का आंकड़ा 2,000 के पार हो गया. इसके साथ ही 7 की मौत भी हो गई. शहरी क्षेत्रों में यह अधिक खतरनाक होता जा रहा है. मौसम के बदलाव के कारण इसके आगामी सप्ताह में और भी तेजी से बढ़ने की आशंका जताई जा रही है. शनिवार को जो 2,261 नये पॉजिटिव मिले हैं उनमें सिटी के 1,844 और ग्रामीण भागों के 415 का समावेश है.

शनिवार को 11,019 नमूनों की जांच की रिपोर्ट आई जिसमें से 2,261 पॉजिटिव पाये गए हैं. जांच में पॉजिटिव मिलने वालों का प्रतिशत भी अब दोगुना होता जा रहा है. पहले 9 से 10 फीसदी के आसपास यह आंकड़ा होता था जो अब 20 फीसदी के करीब पहुंच चुका है. जो नये पॉजिटिव मिले हैं उन्हें मिलाकर कुल संख्या 1,68,250 हो गई है. इसमें 1,34,445 सिटी के हैं और 32,828 ग्रामीण भागों के हैं. वहीं 977 जिले के बाहर के हैं. अभी भी जनता नहीं संभली और कोविड-19 के दिशानिर्देशों का गंभीरता से पालन नहीं किया तो मामला हाथ से बाहर जा सकता है.

सिटी के 2,860 की मौत

अब तक कोरोना के संक्रमण से जिले में कुल 4,447 लोगों की मौत हो चुकी है जिसमें सिटी के ही 2,860 का समावेश है. वहीं ग्रामीण भागों के 792 और जिले के बाहर के 795 शामिल हैं. शनिवार को जिन 7 की मौत हुई उसमें सिटी के 2, ग्रामीण भागों के 3 और जिले के बाहर के 2 मृतकों का समावेश है. अगर मरने वालों का सिलसिला इसी तरह जारी रहा तो जल्द ही यह आंकड़ा 5,000 के पार हो जाएगा. जिले में वर्तमान में 15,423 एक्टिव केस हैं जिसमें से 4,317 का विविध अस्पतालों में उपचार चल रहा है. वहीं 11,106 होम क्वारंटाइन हैं. अब तक 1,48,380 स्वस्थ भी हो चुके हैं लेकिन कोरोना की दूसरी लहर के चलते अब रिकवरी रेट गिरकर 88.19 प्रतिशत पर आ गया है.

निजी अस्पतालों में भीड़

कोरोना के 4,317 मरीज विविध अस्पतालों में उपचार करवा रहे हैं लेकिन इस बार मरीजों का अधिक विश्वास निजी अस्पतालों में अधिक है. जिले के 115 अस्पतालों में मेडिकल में 215, मेयो में 250, एम्स में 51 भर्ती हैं. वहीं निजी अस्पतालों में शेष का उपचार चल रहा है. जो गंभीर नहीं हैं और अलक्षणीय हैं उन्हें होम क्वारंटाइन ही किया जा रहा है. इनकी संख्या भी 11,000 के पार हो गई है. इन लोगों पर निगरानी तंत्र अभी भी कार्यरत नजर नहीं आ रहा है.

कहा जा रहा है कि होम क्वारंटाइन किए हुए मरीजों की गैरजिम्मेदाराना हरकतों के कारण ही सिटी व ग्रामीण भागों में तेजी से संक्रमण का फैलाव हुआ है. डॉक्टरों, स्थानीय प्रशासन व जिला प्रशासन द्वारा लगातार लोगों को अपने घरों में रहने और कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन करने की अपील की है.