File Photo
File Photo

  • हाई कोर्ट के आदेश का होगा पालन

नागपुर. सड़कों के किनारे लंबे समय से पड़े रहनेवाले बिगड़े या लावारिस वाहनों के खिलाफ कार्रवाई करने के हाई कोर्ट की ओर से दिए गए आदेशों को भले ही वर्ष से अधिक का समय बीत गया हो, किंतु देर से ही सही अब मनपा नींद से जागी है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि शुक्रवार को मनपा मुख्यालय में इस संदर्भ में ट्रैफिक पुलिस के साथ महत्वपूर्ण बैठक ली गई.

जिसमें मनपा और पुलिस की संयुक्त रूप से कार्रवाई का अभियान शुरू करने का निर्णय लिया गया है. भंगार जैसी पड़ी वाहनों के कारण कई सड़कों पर ट्रैफिक की परेशानी होने पर हाई कोर्ट की ओर से नाराजगी जताई गई थी. जिसके बाद मनपा और पुलिस को कार्रवाई करने के दिशा निर्देश जारी किए गए थे. 

अधिकारियों की जानकारी से असहमत पदाधिकारी

शुक्रवार को हुई बैठक में सड़कों के किनारे पड़ी लावारिस वाहनों को लेकर यातायात नियोजन अधिकारी नियाजी की ओर से जानकारी रखी गई. जिसमें हनुमाननगर और नेहरूनगर जोन में इस तरह के कोई वाहन नहीं होने का खुलासा किया गया. दोनों जोन अपने होने के कारण कार्यकारी महापौर मनीषा कोठे और स्थायी समिति सभापति पींटू झलके की ओर से आपत्ति जताते हुए इन आंकड़ों से अहमति जताई गई.

यहां तक कि दोनों जोन में ऐसे वाहनों की काफी समस्या होने का हवाला देते हुए अधिकारियों को दौरा करने की हिदायत दी. साथ ही ऐसे वाहनों की जानकारी प्रेषित करने के भी निर्देश दिए गए. नियाजी ने लक्ष्मीनगर जोन में 7, धरमपेठ जोन में 52, धंतोली जोन में 38, गांधीबाग जोन में 27, सतरंजीपुरा जोन में 23, लकडगंज जोन में 17, आसीनगर जोन में 95 और मंगलवारी जोन में 100 मिलाकर कुल 359 वाहनों की जानकारी मनपा के पास दर्ज होने का खुलासा किया. 

मालिकों को जारी हो रहे नोटिस

ट्रैफिक पुलिस उपायुक्त सारंग आवाड ने कहा कि इन वाहनों से न केवल मनपा बल्कि ट्रैफिक विभाग भी परेशान है. जिससे विभाग की ओर से कार्रवाई शुरू की जा चूकी है. वाहनों के मालिकों को खोजकर नोटिस देने की प्रक्रिया शुरू की गई है. यदि वाहनों को लेकर किसी की ओर से दावेदारी नहीं की गई, तो ऐसे वाहनों का विभाग निपटारा कर देगा. मनपा और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई से इन वाहनों की समस्या का निपटारा होने की आशा भी उन्होंने जताई.

वरिष्ठ पार्षद दयाशंकर तिवारी ने कहा कि इस तरह का अभियान शुरू करना सकारात्मक है. कई वर्षों से ऐसे वाहनों के आसपास कचरे के ढेर निर्मित हो रहे हैं. इससे कई हिस्सों में बने कचरा घर भी साफ हो सकेंगे. उन्होंने कहा कि विशेष रूप से रात के समय ऐसे वाहन असामाजिक तत्वों के लिए अड्डा बन जाता है. इस कार्यवाही से इन असामाजिक तत्वों पर भी अंकुश लग सकेगा.