Nylon Manja
File Photo

  • विक्रेताओं की धरपकड़ तेज

नागपुर. पुलिस विभाग नायलॉन मांजा बेचने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है, लेकिन फिर भी चोरी-छिपे दूकानदार यह मांजा बेच ही रहे हैं. ऐसे में मंगलवार की शाम नायलॉन मांजे से एक छात्र की गर्दन कट गई और जगह पर ही उसकी मौत हो गई. इस घटना ने समाज के हर तबके को सोचने पर मजबूर कर दिया.

वहीं पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार ने ऐसी घटनाएं और न हों इसीलिए देर रात आला पुलिस अधिकारियों की बैठक ली. बताया जाता है कि शहर के सभी आला अधिकारी मध्य रात्रि तक उपाय योजना पर मंथन कर रहे थे. बुधवार की सुबह से ही सभी थानेदारों को अपने इलाके के हर मांजा और पतंग विक्रेता के यहां जांच करने के आदेश दिए गए. पुलिस की कार्रवाई तेज होने से दूकानदारों में भी हड़कंप मच गया.

पुलिस ने केवल दूकानदार ही नहीं नायलॉन मांजे से पंतग उड़ाने वाले के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करने का निर्णय लिया है. कुछ स्थानों पर पुलिस पतंगबाजों को भी थाने ले गई. पतंग और मांजे का सबसे बड़ा बाजार तहसील थानांतर्गत इतवारी और सक्करदरा थानांतर्गत गजानननगर परिसर में है. सीपी के आदेश मिलते ही पुलिस काम में जुट गई. तहसील पुलिस 17 दूकानदारों को उठाकर थाने ले गई. नायलॉन मांजे न बेचने की हिदायत देकर प्रतिबंधक कार्रवाई की गई. बताया जाता है कि पुलिस ने दिनभर में 45 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की है. इनमें ज्यादातर दूकानदार हैं. साथ ही कुछ जगहों पर पुलिस ने नायलॉन मांजे से पतंग उड़ाने वालों पर भी कार्रवाई की.

किसी पर भी न करें रहम : CP अमितेश कुमार

थाने के कर्मचारियों को गश्त के दौरान मैदान और छतों से पतंग उड़ाने वालों पर भी निगरानी करने के निर्देश दिए हैं. यदि कोई नायलॉन मांजे से पतंग उड़ाते दिखाई दे तो उस पर पर्यावरण संरक्षण अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर सख्त कार्रवाई करने को कहा गया है. छोटा हो या बड़ा किसी पर भी रहम करने की जरूरत नहीं है. इस तरह बेकसूर लोगों की जान जाना बेहद खेदजनक है. विक्रेताओं के साथ नायलॉन मांजे से पतंग उड़ाने वालों पर भी सख्त कार्रवाई होनी चाहिए.