Nagpur ST Bus Stand

  • कोरोना वायरस को लेकर बरती नहीं जा रही एहतियात

नागपुर. महानगर में कोरोना का प्रकोप अब कम होने लगा है. लेकिन हमारी लापरवाही हमें भारी भी पड़ सकती है. प्रशासन ने हो रही परेशानी को देखते हुए लॉकडाउन खोलने का फैसला लिया है. लेकिन देखा जा रहा है आम आदमी अभी भी कोरोना को लेकर गंभीर नहीं है. खासकर सार्वजनिक जगहों पर इस तरह की स्थिति आम है कि जहां पर न तो मास्क अनिवार्य किया जा रहा है और न ही थर्मल स्क्रीनिंग. एसटी बस स्टैंड पर न तो सैनिटाइजर की व्यवस्था है और न ही किसी यात्री का टेम्परेचर चेक किया जाता है. ऐसे में कोरोना का संक्रमण कहीं दोबारा न फैल जाए. इससे यात्रियों की सुरक्षा को भी खतरा है.

शासन-प्रशासन स्तर पर लगातार संक्रमण रोकने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. एसटी बस स्टैंड में कई राज्यों के यात्री पहुंचते हैं. लेकिन बस स्टैंड में उनकी स्क्रीनिंग तक नहीं होती है. यहां से यात्री सीधे अपने घर जाता है. अगर बस स्टैंड पर ही उसकी थर्मल स्क्रीनिंग हो जाए तो कोरोना फैलने की संभावना कुछ प्रतिशत कम हो जाती है. किसी भी तरह का सिमटमस मिलने पर यात्री को तुरंत अस्पताल में जांच के लिए भेजना चाहिए. एसटी मैनेजमेंट द्वारा अब तक ऐसी कोई भी व्यवस्था नहीं लागू की गई है. 

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं

एसटी बस स्टैंड में अब यात्रियों की संख्या बढ़ने लगी है. लेकिन यहां पर कोरोना को लेकर जरूरी एहतियात नहीं बरती जा रही हैं. अधिकतर बस ड्राइवर और कंडक्टर समेत पुलिस के जवान भी बिना मास्क के नजर आते हैं. वहीं यात्रियों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने बस स्टैंड पर किसी भी तरह का मैकेनिजम नहीं है. जिससे आम जनता को इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.