File Photo
File Photo

  • आज सीपी करेगे उद्घाटन
  • 16 बेड की सुविधा, 13 बेड का आईसीयू
  • 2 वेन्टीलेटर, ऑक्सीजन सेंटर लाइन तैयार
  • 16 लोगों का मेडिकल स्टाफ
  • विदर्भ सभी पुलिसकर्मियों के लिए ओपन

नागपुर. सिटी में कोरोना योद्धाओं के तौर पर कार्यरत पुलिस कर्मियों में संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है. अब तक 1386 पुलिस कोरोना से संक्रमित हो चुके है. वहीं इस वायरस से कुल 15 पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों की मौत हो गई है. निजी अस्पतालों में पुलिस कर्मियों के लिए बेड उपलब्ध नहीं होने के कारण उनकी मृत्यु हो जाने के बाद पुलिस विभाग ने खुद का कोविड केयर सेंटर तैयार किया है.

सीपी अमितेशकुमार के आदेश परडीसीपी (क्राइम ब्राच) गजानन राजमाने और पुलिस वैद्यकिय अधिकारी डॉ. संदीप शेंडे ने पुलिस अस्पताल में 5 दिनों के अंदर कोविड सेंटर का निर्माण किया गया. अत्याधूनिक सुविधाओं से लेस इस सेंटर के बन जाने से पुलिस विभाग के कर्मचारियों को काफी राहत मिल सकती है.

5 दिनों में किया तैयार
गौर करने की बात यह है कि पुलिस ने यह सेंटर महज 5 दिनों में बनाया है. पुलिस अस्पताल के कोविड केयर सेंटर में कुल 16 बेड की सुविधा की गई है, जिसमें 3 बेड कैज्यूल्टी और 13 बेड आईसीयू में रहेगे. इसके अलावा 2 वेन्टीलेटर, ऑक्सीजन की नई सेंटर लाइन तैयार की गई है. मरीजों के उपचार में किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं आए इसलिए अतिरिक्त 8 स्टाफ हायर किया गया हैं. 1 फिजिशियन, 2 बीएमएएस डॉक्टरों समेत कुल 16 लोगों को स्टाफ मरीजों की सेवा में दिन रात लगा रहेगा.  

‘बी’ और ‘सी’ श्रेणी के मरीजों का प्राथमिकता
वर्तमान में ‘बी’ और ‘सी’ कैटिगिरी के मरीजों को किसी अस्पताल में बेड की किल्लत से सयम पर उपचार नहीं मिलने के कारण कई लोगों की घर में ही मौत हो गई है. ऐसा न हो इसलिए ‘बी’ श्रेणी के सर्दी, खासी, बुखार वाले मरीजों को और ‘सी’ श्रेणी में आने वाले क्रिटिकल कोविड मरीजों को ही सेंटर में उपचार दिया जाएगा. इसके बाद प्राथमिक उपचार देने के बाद अन्य अस्पतालों में बेड खाली होने पर उन्हें वहां शिफ्ट किया जाएगा.

निशुल्क होगा उपचार
केवल सिटी के ही नहीं बल्कि विदर्भ के किसी भी जिले से आने वाले संक्रमित पुलिस कर्मी को उपचार दिया जाएगा. कई पुलिस कर्मी अकोला, अमरावती, यवतमाल से सिटी में उपचार करवाने आते है. निजी अस्पतालों में फोन करने पर उन्हें बेड उपलब्ध होने की जानकारी मिलती है, लेकिन 3-4 घंटे की यात्रा करने के बाद नागपुर पहुंचने तक बेड फूल हो जाते है. ऐसे में संक्रमित और परिवार को अस्पतालों के चक्कर लगाना पड रहा है. इस बात को ध्यान में रखते हुए विदर्भ के किसी भी पुलिस कर्मी और उसके परिवार को पुलिस कोविड केयर सेंटर में निशुल्क उपचार देने की व्यवस्था की गई है.