Potholes

    नागपुर. अक्सर सड़कों को निर्माण कार्य के नाम पर कई बार खोदा जाता है लेकिन हर बार खोदकर और कार्य पूरा होने के बाद उनकी सूरत बिगाड़ दी जाती है. काम पूरा होने के बाद सड़क को भगवान भरोसे छोड़ दिया जाता है जिसका खामियाजा उस मार्ग से गुजरने वाले राहगीरों को भुगतना पड़ता है. ऐसी ही एक तस्वीर जूनी मंगलवारी सड़क के पास ही है. यहां पर पाइन बिछाने समेत अन्य कार्यों के लिए सड़क के बीचोबीच में गड्ढा किया गया था. काम भी पूरा किए कई दिन हो गए हैं लेकिन काम पूरा होने के बाद न तो इसे ठीक करने की कोशिश की गई और न ही इस मार्ग को समतल किया गया. उलटे मिट्टी डालकर जिम्मेदार अपना फर्ज पूरा कर लौट गए. लेकिन सड़क की इस हालत से आम जनता और इस मार्ग से गुजरने वाले राहगीर काफी परेशान हैं. उनका कहना है कि हमेशा निर्माण कार्य के नाम पर सड़कों को खोदा जाता है लेकिन उन्हें समतल नहीं किया जाता है.

    बीच में पड़ा है मिट्टी का ढेर

    जूनी मंगलवारी क्षेत्र की ओर मुड़ने से पहले ही सड़क के बीचोबीच मिट्टी का ढेर मिल जाएगा. आसपास के लोगों का कहना है कि यह गटर बनाने और उसकी सफाई के लिए खोदा गया था लेकिन इस पर मिट्टी डालकर वैसे ही छोड़ दिया गया. लेकिन इस राह पर रात के वक्त तेज रफ्तार से आने वाले वाहन चालक हमेशा हादसों का शिकार होते हैं. इसकी शिकायत भी कर चुके हैं. लेकिन इसे आज तक ठीक नहीं किया गया है. 

    हर जगह की यही समस्या

    सड़क खोद कर पाइप बिछाना और ठीक करने का काम रोजाना कहीं न कहीं किया जाता है लेकिन कार्य करने वाली एजेंसी को सड़क खराब करने का परमिशन देने वाला विभाग उसे ठीक करने को लेकर कोई आदेश नहीं देता है. निर्माण कार्य के बाद इसे उसी हाल में छोड़ दिया जाता है जिससे राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ती है.