CBSE Students, Exam
Students File Photo : PTI

    नागपुर. सीबीएसई बारहवीं की लिखित परीक्षा को लेकर अभी कोई गाइडलाइन जारी नहीं हुआ है लेकिन प्रैक्टिकल परीक्षा पूरी की जाएगी. इसको लेकर स्कूलों को भी सीबीएसई से निर्देश मिले हैं. जो विद्यार्थी प्रैक्टिकल परीक्षा में अनुपस्थित रहे हैं उन्हें दोबारा मौका दिया जाएगा. सीबीएसई ने नई गाइडलाइन जारी की है. इसमें जून से सभी स्कूलों को प्रैक्टिकल कराने के लिए कहा गया है. स्कूल प्रबंधन अब छात्रों के प्रैक्टिकल लेने के लिए तैयारी कर रहा है.

    वहीं बताया गया कि कई स्कूलों ने पहले प्रैक्टिकल लेना शुरू किया था लेकिन वह पूरा नहीं हो सका था. जिसके बाद जिन छात्रों और स्कूलों में प्रैक्टिकल पूरा नहीं हुआ है, ऐसे स्कूलों को जल्द से जल्द प्रैक्टिकल पूरा कराने के निर्देश दिए गए हैं. बताया गया कि जिले के ज्यादातर स्कूलों में प्रमुख विषयों में से कुछ विषयों की परीक्षाएं पूरी की जा चुकी है. लेकिन जो बच गए हैं उन स्कूलों को जल्द से जल्द शेड्यूल के अनुसार प्रैक्टिकल परीक्षाएं देनी होगी. इसके लिए प्लान तैयार किया जा रहा है. लॉकडाउन के इस वक्त कैसे छात्रों के प्रैक्टिकल लिए जाएंगे इस पर भी मंथन चल रहा है.

    प्रैक्टिकल देना होगा अनिवार्य

    प्रैक्टिकल परीक्षा हर हाल में सभी विद्यार्थियों का लेना है. यदि किसी विषय में विद्यार्थी शामिल नहीं होता तो उसकी अनुपस्थिति नहीं लगाई जाएगी. बल्कि ऐसे विद्यार्थियों को चिंहित करके उन्हें बुलाना है और प्रैक्टिकल परीक्षा में शामिल करवाना है. विद्यार्थी जब तक सभी विषयों की प्रैक्टिकल परीक्षा पूरी नहीं कर लेता तब तक मौका देना है. हर स्कूल अपने हिसाब से प्रैक्टिकल परीक्षा पूरी करेगा.

    इन विषयों में जरूरी है प्रैक्टिकल

    सीबीएसई के गाइडलाइन के मुताबिक 12वीं कक्षा की प्रैक्टिकल परीक्षा हर विषयों की ली जाएगी. मसलन साइंस के विद्यार्थियों को सोशल साइंस, फिजिक्स और केमिस्ट्री जैसे प्रमुख विषयों की परीक्षा देनी है. मैथ्स के विद्यार्थियों से मैथ्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री और बॉयोलॉजी के विद्यार्थियों का बॉयोलॉजी, फिजिक्स और केमिस्ट्री विषय की प्रैक्टिकल परीक्षा ली जाएगी.

    गेट में दो नए पेपर होंगे शामिल

    इधर नेशनल कोआर्डिनेशन बोर्ड(एनसीबी)ने ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) के कैंडिडेट्स को अगले साल दो नए पेपर चुनने का विकल्प दिया है. इस बारे में बोर्ड की हुई बैठक में यह फैसला लिया गया है. ऑर्गेनाइजिंग इंस्टीट्यूट्स ने गेट-2022 में दो नए पेपर शामिल करने की मंजूरी दी है. अब नौसेना आर्किटेक्चर और मरीन इंजीनियरिंग में भी पेपर दिया जा सकेगा. सिटी के स्टूडेंट्स को इसमें अवसर मिल सकेगा.