Representational Pic
Representational Pic

नागपुर. एमआईडीसी थानांतर्गत वानाडोंगरी के पालकर लेआउट में साइको बेटे ने अपने ही पिता को मौत के घाट उतार दिया. पुलिस ने उसकी मानसिक हालत को देखते हुए मेंटल अस्पताल में दाखिल करवा दिया है. जांच में पता चला कि उसने कुल्हाड़ी से अपने पिता पर वार किए थे. इस घटना से पूरे इलाके में हड़कंप मचा हुआ है.

बुधवार की रात सम्राट रंगारी (55) और उनका बेटा सिकंदर (27) घर में थे. इसी दौरान सिकंदर को पागलपन का दौरा आया. उसने घर के भीतर सम्राट पर कुल्हाड़ी से वार कर मौत के घाट उतार दिया. शव को घसीटते हुए घर के बाहर फेंक दिया. खुदको कमरे में बंद करके नग्न अवस्था में चिवड़ा खा रहा था. पुलिस ने दरवाजा तोड़ा तो होश उड़ गए. बड़ी ही सावधानी से पुलिस ने उसे कब्जे में लिया. उसे जेल में दाखिल करवाने में जोखिम हो सकता था. इसीलिए मानसिक स्थिति को देखते हुए न्यायालय से अनुमति लेकर सिकंदर को मेंटल अस्पताल में दाखिल करवाया गया.

अगस्त महीने में लाया गया था घर

एमआईडीसी के थानेदार युवराज हांडे ने बताया कि सिकंदर पूरी तरह पागल है. लंबे समय से उसका उपचार चल रहा था. अगस्त महीने तक तो वह मेंटल अस्पताल में ही था. तबीयत में सुधार होने के बाद परिजन उसे घर ले आए. कुछ महीने वह ठीक भी रहा. पिछले 1 महीने से वह दोबारा पागलों की तरह हरकत कर रहा था. नग्न अवस्था में परिसर में घूमता था. पड़ोसी भी उससे परेशान थे.

परिजनों ने उसे दोबारा अस्पताल में भर्ती करने का निर्णय लिया था, लेकिन दिवाली और कोरोना को देखते हुए रुक गए. किसी ने सोचा नहीं था कि उसका पागलपन इतना खतरनाक हो सकता है. घटनाक्रम बताने वाला कोई नहीं है. सिकंदर की मां अपनी बेटी से मिलने उसके घर गई थी. उस समय यह वारदात हुई. सिकंदर से न कुछ पूछा जा सकता है और न बताने की स्थिति में है. इसीलिए हमने उसे मेंटल अस्पताल में दाखिल करवा दिया है.