Nitin raut

    नागपुर. शहर में हर दिन 2,000 से अधिक कोरोना मरीज मिल रहे हैं. ऐसे में संक्रमण बढ़ने से रोकने के लिए प्रशासन ने सोमवार से 21 मार्च तक कड़ा लॉकडाउन घोषित किया है. बिना कारण घर से बाहर घूमने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिये गये हैं, इसलिए अपने और अपने परिवार के साथ समाज में बेहतर स्वास्थ्य के लिए सभी शहरवासी लॉकडाउन को सफल बनाकर कोरोना चेन तोड़ने में मदद करें.

    पालक मंत्री नितिन राऊत ने यह अपील की. रविवार को लॉकडाउन के संदर्भ में उन्होंने विभागीय आयुक्त डॉ. संजीवकुमार, पुलिस आयुक्त अमितेश कुमार, जिलाधिकारी रवींद्र ठाकरे, महानगरपालिका आयुक्त राधाकृष्णन बी., जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी योगेश कुंभेजकर आदि के साथ समीक्षा बैठक की.

    शहर को हॉटस्पॉट बनने से रोकना होगा

    राऊत ने कहा कि सभी क्षेत्रों के नागरिक, व्यापारी, उद्यमी, कर्मचारी, वेतनभोगी कर्मचारी 15 से शुरू होने वाले बंद का समर्थन करें. यदि हम अगले 7 दिनों में लॉकडाउन का सख्ती से पालन करते हैं तो शहर के कई हॉटस्पॉटों में कोरोना के प्रकोप की संख्या में कमी आने की संभावना है. अगले लॉकडाउन का भविष्य इस कमी पर निर्भर करेगा, इसलिए नागरिकों को जरूरत न होने पर घर से बाहर नहीं जाना चाहिए.

    सिटी के आसपास भी रहेगा कर्फ्यू 

    वहीं जिलाधकारी रवीन्द्र ठाकरे ने बताया कि नागपुर के पास कामठी शहर में पुराने और नये पुलिस स्टेशनों की सीमाओं के भीतर हिंगना, सोनेगांव, कोराडी, कलामना, हुडकेश्वर आदि को शामिल किया गया था. इस पूरे क्षेत्र में कर्फ्यू बना रहेगा, इसलिए यह स्पष्ट किया गया है कि किसी को सोमवार से से 7 दिनों के लिए ग्रामीण क्षेत्रों से नागपुर शहर में प्रवेश करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए. ग्रामीण क्षेत्रों की दूकानों को शाम 6 बजे से बंद करने का निर्देश दिया गया है.

    लॉकडाउन के दौरान नागपुर मेट्रोपॉलिटन और नागपुर पुलिस कमिश्नर कार्यालय की सीमा के भीतर क्षेत्रों में कर्फ्यू होगा. हालांकि अगर ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के रोगियों में लगातार वृद्धि हो रही है तो यहां भी कर्फ्यू पर विचार किया जा सकता है. ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों को अपने घरों को नहीं छोड़ना चाहिए और बिना कारण बताए नागपुर में प्रवेश नहीं करना चाहिए. लॉकडाउन में सभी व्यापारियों, दूकानदारों, विभिन्न छोटे और बड़े उद्योगों में शामिल व्यापारियों को व्यापक आर्थिक हित में लॉकडाउन के साथ सहयोग करना चाहिए.