Train Bedroll

  • कोरोना के कारण यात्रियों को चादर, कंबल देने की मनाही

नागपुर. कोरोना संक्रमण के कारण रेलवे को ट्रेनों के परिचालन समेत विभिन्न सुविधाओं में कई परिवर्तन करने पड़े है. नये बदलाव के तहत रेलवे बोर्ड वातानुकूलित क्लास में सफर करने वाले यात्रियों के किराये से बेडरोल शुल्क शुल्क हटाने पर विचार कर रहा है. मिली जानकारी के अनुसार, यदि सबकुछ ठीक रहा हो तो अगले माह से यह शुल्क हटाया जा सकता है.

ज्ञात हो कि पहले रेलवे की ओर एसी क्लास के यात्रियों के बेडरोल (चादर व कंबल) दिया जाता था. लेकिन कोरोना संक्रमणकाल में लाकडाउन के बाद शुरू की गई ट्रेनों में यात्रियों को यह सुविधा नहीं दी जा रही है लेकिन किराये में पहले की तरह बेडरोल चार्ज 25 रुपये जोड़ा जा रहा है.

जब सुविधा नहीं तो भुगतान कैसा
मिली जानकारी के अनुसार, बोर्ड अधिकारियों में इस विषय पर चर्चा जारी है. दूरी व ट्रेनों में दी जाने वाली सुविधाओं के आधार पर किराया तय है, लेकिन संक्रमण से बचाव के चलते यात्रियों को बेडरोल नहीं दे रहे हैं. अधिकारियों का कहना है कि एसी क्लास में सफर से पहले यात्रियों को बेडरोल देना एक महत्वपूर्ण सुविधा थी लेकिन अब यात्री को इस सुविधा का लाभ नहीं दिया जा रहा. ऐसे में जब सुविधा नहीं तो चार्ज कैसे. इसी बात पर विचारविमर्श जारी है. अभी इस पर अंतिम सहमति नहीं बनी है.

…तो सेट्रेलाइज्ड लांड्री पर लगेगा ताला
लाकडाउन के बाद 3 महीने बाद दोबारा ट्रेनें शुरू की गई. यात्रियों को बेडरोल ना देने संबंधी निर्णय पहले ही तय कर लिया गया था. बेडरोल प्रदान ना किये जाने से भी रेलवे को भारी नुकसान हो रहा है. इससे रेलवे की विभिन्न सेंट्रलाइज्ड लांड्री के बंद हो गई है. यदि बेडरोल प्रदान ना करने का निर्णय आगे भी चला तो इन लांड्रिज पर ताला लग जायेगा.

ज्ञात हो कि लाकडाउन से पहले नागपुर से चलने वाली ट्रेनों में दिये जाने वाले बेडरोल बिलासपुर की लांड्री से धूलकर आते थे. नागपुर स्टेशन से मुंबई दुरांतो, पुणे गरीबरथ, पुणे एक्सप्रेस, अमृतसर एसी एक्सप्रेस, सेवाग्राम एक्सप्रेस, प्रेरणा एक्सप्रेस जैसे कई ट्रेनें थी जो यहां से शुरू होती थी. इसके अलावा अन्य कई ट्रेनों में भी यहां से बेडरोल ट्रेनों में चढ़ाये जाते थे. इनकी संख्या सैकड़ों में होती थी जिससे मंडल को अच्छी खासी आय होती थी. यदि भविष्य में भी बेडरोल ना दिये जाने का निर्णय जारी रहा तो रेलवे से आय का एक साधन छूट जायेगा.