RATION
File Photo

    नागपुर. करोड़ों रुपये के राशन घोटाले में ईडी ने ईडी ने मनी लांड्रिंग कानून के तहत उद्योजक अजय कुमार चंद्रप्रकाश बाहेती को गिरफ्तार किया. न्यायालय ने उसे 3 जुलाई तक ईडी की हिरासत में भेज दिया. बाहेती के खिलाफ नांदेड पुलिस ने भादंवि की धारा 420, 406, 467 समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था. एफआईआर के आधार पर ईडी ने मई 2021 में मामले की जांच शुरू की थी. पुलिस ने जीवनाश्यक वस्तु अधिनियम 1955 के तहत मामले में चार्जशिट दायर किया है.

    आरोपों के अनुसार आरोपी ने संगठित गिरोह बनाकर सार्वजनिक वितरण प्रणाली से अवैध ढंग से आर्थिक लाभ लिया. साथ ही नांदेड में सरकारी कोटे के राशन अनाज की सुनियोजित ढंग से चोरी शुरू की. जांच के दौरान खुलासा हुआ कि आरोपी गैरकानूनी गतिविधियों व अवैध मुनाफाखोरी में संलिप्त है.

    इस अपराध को सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया जाता था. इसके तहत भारतीय खाद्य निगम के गोदाम से पीडीएस खाद्यान्न के ट्रकों को नांदेड़ व हिंगोली जिले की विभिन्न तहसीलों में पहुंचाया जाता था. वहां से इन ट्रकों को आरोपी बाहेती की फैक्टरी मेसर्स इंडिया एप्रो अनाज लिमिटेड में भेजा गया था. इस घोटाले में 3,000 से अधिक राशन दूकानें, 2 जिले और एफसीआई के 28 गोदाम शामिल थे. इसके अलावा कुछ अज्ञात एजेंट, ट्रेडर्स, कारोबारी व सरकारी अधिकारी भी घोटाले में शामिल हैं.