Representational Pic
Representational Pic

  • 30 रुपये दुपहिया की वसूली
  • 50 रुपये लिये जा रहे चार पहिया वाहनों के

नागपुर. शहर के शॉपिंग मॉल में पार्किंग के नाम पर लूट जारी है. सुविधाओं के नाम पर पार्किंग की दरें इतनी अधिक हैं कि वाहन चालकों को मॉल जाना अखरता है. कायदे के अनुसार देखा जाये, तो मॉल और मल्टीप्लेक्स को टाउन एंड कंट्री प्लानिंग से अनुमति इसी शर्त पर मिलती है कि उन्हें पार्किंग नि:शुल्क रखनी है. इसके बाद भी शहर के मॉल्स में पार्किंग के नाम पर अनाप-शनाप वसूली की जा रही है. मॉल में विविध तरह के उत्पादों की खरीदी करने वाले लोगों को इस तरह की पार्किंग की वसूली से जमकर फटका लग रहा है.

सुविधा और सुरक्षा के नाम पर ग्राहकों से इस तरह की वसूली नहीं की जा सकती है. लेकिन आरेंजसिटी में पार्किंग के लिए मॉल और मल्टीप्लेक्स में अपने एक अलग ही नियम बने हुए हैं. इनमें पहले जहां 10 से 20 रुपये पार्किंग के लगते थे, वहीं अब इसकी दरें बढ़कर दुपहिया के 30 रुपये और चार पहिया वाहनों के लिए 50 रुपये कर दिये गये हैं. इस पर शहर के युवाओं का कहना है कि पार्किंग संचालकों द्वारा दरें बढ़ाकर लूट की जा रही है.

मुफ्त करनी चाहिए पार्किंग

दिशा कहती हैं कि मॉल जैसे स्थान पर पार्किंग नि:शुल्क रखी जानी चाहिए. आये दिन पार्किंग की अनाप-शनाप दरें बढ़ाई जा रही हैं. बिग बाजार में सामान की खरीदी पर पार्किंग शुल्क को काट लिया जाता है, लेकिन अन्य शॉप में खरीदी करने के बावजूद पार्किंग शुल्क नहीं काटा जाता है. मनमानी अनुसार बढ़ते पार्किंग शुल्क पर प्रशासन को हस्तक्षेप करना चाहिए.

बाहर लगानी पड़ती है गाड़ी

पार्किंग की इतनी ज्यादा दरें हैं कि मजबूरी में गाड़ी को बाहर पार्क करना पड़ता है. मॉल में पार्किंग की दरें मनमानी के चलते बढ़ते जा रही है, जिस पर किसी तरह का लगाम नहीं लगाया जा रहा है. महंगाई के इस दौर में दुपहिया पार्किंग के लिए 30 रुपये देना बड़ा अखरता है. पार्किंग वालों को नियम-कानून का ध्यान देना चाहिए. पहले मात्र 10 रुपये ही पार्किंग के देने पड़ते थे, लेकिन आज नियम-कानून की धज्जियां उड़ाते हुए पार्किंग संचालक अनाप-शनाप वृद्धि करते जा रहे हैं. इनसे किसी तरह की बहस भी नहीं की जा सकती. मॉल के बाहर गाड़ी पार्क कर भी दें, तो ट्राफिक वाले गाड़ियों को उठाकर ले जाते हैं. मॉल में पार्किंग की सुविधा मुफ्त दी जानी चाहिए.

महंगा साबित हो रहा मॉल में जाना

राहुल कहते हैं कि महंगी पार्किंग के वजह से आज मॉल में जाना महंगा साबित होते जा रहा है. इस तरह से मनमर्जी से बढ़ते पार्किंग शुल्क के लिए प्रशासन को इस पर ध्यान देते हुए लोगों को राहत देनी चाहिए. अभी 30 और 50 रुपये वसूली की जा रही है. कहीं आने वाले समय में दुपहिया के 50 रुपये और चार पहिया वाहन के 100 रुपये न कर दें. मॉल में पार्किंग नि:शुल्क है, तो किस बात के पैसे वसूले जाते हैं. सुरक्षा और सुविधा ही देनी है, तो पार्किंग के नाम पर लूट न मचाते हुए नॉमिनल चार्ज रखे जाने चाहिए. आज मॉल में सैकड़ों गाड़ियों का आना-जाना सुबह से रात तक लगा रहता है. कोई 1 घंटे के लिए भी आता है, तो उससे भी 50 रुपये वसूल लिये जाते हैं. इस तरह की लूट को बंद किया जाना चाहिए.