2,500 salons, 600 parlors open in district
File Photo

    नागपुर. जिला प्रशासन ने लगभग सभी सेक्टरों को खोलने का निर्णय लिया है जिसके कारण बाजार में अच्छी चहलकदमी देखने को भी मिली. व्यापारियों में भी उत्साह का माहौल देखा गया लेकिन इस बार भी सलून, स्पॉ, ब्यूटी पार्लर, जिम को खोलने की इजाजत नहीं दी गई है जिसके कारण नाई समाज और जिम संचालकों में उदासी का माहौल है. इनका कहना है कि जानबूझकर उनके साथ अन्याय किया जा रहा है.

    सलून संचालकों ने कहा कि उन्हें भी कारोबार करने की अनुमति मिलनी चाहिए. सलून बंद होने से उनकी आर्थिक हालत काफी खराब हो चुकी है. उनका कहना है कि सलून में काम करने वाले तो रोजी-रोटी के लिए तरस रहे हैं. कोई फुटपाथ पर सब्जी बेच रहा है तो कोई और कुछ और काम कर अपना जीवनयापन कर रहा है.

    सरकार को इनकी मजबूरियों के बारे में विचार करना चाहिए. संचालकों ने कहा कि अन्य राज्यों में सलून, ब्यूटी पार्लर खोलने की अनुमति दी गई है जिससे वे कारोबार कर रहे हैं. राज्य में ही उनके साथ वर्षभर से अन्याय किया जा रहा है. इतने नियम-कानून बना रहे हैं कि जीवन चलाना मुश्किल हो गया है.

    बैंक कर्ज चुकाना हुआ मुश्किल

    लगभग यही हालत जिम संचालकों की भी है. उनका कहना है कि भारी निवेश कर जिम लगाया गया था. यहां पर लोग इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आते हैं. मुख्य रूप से युवाओं में जिम का क्रेज काफी है. जिन्हें जिम की आदत है उनके लिए यह जरूरी है लेकिन प्रशासन हमें जिम खोलने के लिए आदेश ही नहीं दे रहा है. जब सभी सेक्टर खुल सकते हैं तो जिम के साथ ही अन्याय क्यों हो रहा है. बैंकों को पैसा वापस करना मुश्किल हो रहा है. संचालकों ने प्रशासन से अपील की है कि उन्हें भी जिम शुरू करने की अनुमति दी जाए. इसके लिए वे सारे नियम-कानून का पालन करने के लिए तैयार हैं.