SECR : किसान रेल से दूर हो रहे किसान, टाइमिंग को लेकर नहीं जम रही बात

नागपुर. रेलवे ने किसानों, फल उत्पादकों और व्यापारियों को दोबारा अपने से जोड़ने के लिए किसान रेल शुरू की. लदान में 50 प्रतिशत की रियायत के बावजूद इसे किसानों और व्यापारियों का उम्मीद के अनुरूप प्रतिसाद नहीं मिल रहा है. इसकी वजह ट्रेन की टाइमिंग बताई जा रही है. दक्षिण पूर्व मध्य रेल नागपुर मंडल के तहत इतवारी होते हुए छिंदवाड़ा-हावड़ा किसान रेल की यही स्थिति है. किसानों की मांग है कि यदि ट्रेन हमारे लिये चलाई जा रही है तो इसकी टाइमिंग भी हमारी जरूरत के मुताबिक हो ताकि हमारे सब्जियां या फल संबंधित शहर में सही समय पर पहुंचे और बिक सके. मिली जानकारी के अनुसार, मंडल प्रबंधन की ओर से टाइमिंग के बारे में कोई उचित आश्वासन नहीं मिलने से किसानों और व्यापारियों ने किसान रेल से दूरी बनानी शुरू कर दी है. हालांकि मंडल की ओर से 25 नवंबर को दूसरी किसान रेल चलाने की घोषणा की है.

हर बुधवार को चलाने का आदेश थे

मिली जानकारी के अनुसार, रेलवे बोर्ड ने मंडल को हर बुधवार को छिंदवाड़ा से किसान रेल चलाने के आदेश दिये थे. लेकिन पहली रेल चले 3 सप्ताह बितने के बाद भी दूसरी किसान रेल नहीं चलाई जा सकी. इसमें कोई दोराय नहीं कि रेलवे ने किसान रेल किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलाने और कम भाड़े में वह अन्य स्थानों पर पहुंचाने के लिए शुरू की है.  किसान चाहते हैं कि उक्त ट्रेन को छिंदवाड़ा से सुबह के बजाय शाम को रवाना किया जाये ताकि अगली सुबह ही उनकी उपज नागपुर समेत महाराष्ट्र की मंडियों में पहुंच सके. इसलिए किसान सिर्फ इतवारी तथा गोंदिया तक सब्जियों की बुकिंग कराने में विश्वास जता रहे हैं.

इतवारी में 4 घंटे का स्टापेज क्यों 

किसानों की यह मुख्य मांग यह भी है कि उन्हें ट्रेन से सब्जियां व खाद्य सामग्री भेजने का फायदा तभी होगा जब वह ट्रेन में साथ जाएंगे. जिससे उन्हें सामान उतारने और चढ़ाने में भाड़ा नहीं देना होगा. किसी भी स्टेशन में 30 मिनट से अधिक का स्टापेज रेलवे को नहीं रखना चाहिए. दूसरी तरफ ट्रेन को इतवारी स्टेशन पर करीब 3 घंटे का लंबा स्टापेज दिया गया है. यानि

यहां पर यह ट्रेन 3 घंटे से ज्यादा खड़ी रहेगी. दूसरी तरफ, इस किसान रेल को खड़गपुर के पास निचेता रेलवे स्टेशन पर स्टापेज की भी मांग की गई है क्योकि निचेता में पान की सबसे बड़ी मंडी है.

31 घंटे में पहुंचेगी हावड़ा स्टेशन

किसान स्पेशल ट्रेन 25 नवंबर को सुबह 5.10 बजे छिंदवाड़ा से रवाना होगी. फिर सौंसर में सुबह 6.25 बजे  पहुंचकर 6.55 बजे रवाना होकर सावनेर सुबह 7.25 बजे पहुंचेगी और 7.55 बजे रवाना होगी. यहां से चलकर यह स्पेशल ट्रेन इतवारी स्टेशन सुबह 9 बजे पहुंचेगी और फिर दोपहर 1 बजे इतवारी से खड़गपुर के लिए रवाना होगी. किसान स्पेशल ट्रेन गोंदिया 2.55 बजे, दुर्ग 5.40 बजे, रायपुर 6.40 बजे, बिलासपुर 9 बजे, रायगढ़ 11.30 बजे, झारसुगुड़ा 1.20 बजे, राउरकेला 3.10 बजे, टाटानगर से 6.10 बजे प्रस्थान कर खड़गपुर सुबह 9.10 बजे और हावड़ा स्टेशन दोपहर 12 बजे पहुंचेगी. स्पेशल ट्रेन में 10 बोगी एवं 2 गार्ड डिब्बे शामिल किए है.

अभी तक कुछ खास बुकिंग नहीं

रेल अधिकारियों की मानें तो 25 नवंबर को छिंदवाड़ा से रवाना होने वाली किसान रेल को बहुत अधिक प्रतिसाद नहीं मिला है. हालांकि मंडल रेल अधिकारी मंडियां जाकर लगातार किसानों और व्यापारियों के संपर्क में है और बुकिंग के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं. लेकिन किसानों का कहा है कि किसान स्पेशल ट्रेन किसानों के लिए शुरु की गई है तो उनके हिसाब से उसका समय निर्धारित होना चाहिए. बुकिंग व व्यापार करने में किसानों में अभी रुचि नहीं है ट्रेन की टाइमिंग में परिवर्तन किया जाना चाहिए.