File Photo
File Photo

  • गृहमंत्री देशमुख ने वर्चुअल रैली में कहा

नागपुर. गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि शरद पवार ने कृषि मंत्री रहते हुए पहली बार देश को अन्न आत्मनिर्भर बनाया और इतना ही नहीं देश अनाज निर्यातक भी बन गया. देश में दूसरी हरित क्रांति लाने का कार्य शरद पवार ने किया. राजनीति-सामाजिक, खेल, सांस्कृतिक, आपदा प्रबंधन जैसे सभी क्षेत्रों में कार्य करते हुए उन्होंने सभी पार्टियों के साथ संबंध भी बनाए रखा. वे राकां प्रमुख पवार के 80वें जन्मदिन पर आयोजित वर्चुअल रैली में देशपांडे सभागृह में बोल रहे थे.

कोरोना के चलते पवार के जन्मदिन पर वर्चुअल रैली का आयोजन किया गया था. देशमुख ने कहा कि राजनीति में हारने से नहीं घबराने वाला नेता विरले ही होते हैं इसलिए उनका देश ही नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सम्मान हुआ. विदर्भ के किसानों के प्रति वे हमेशा चिंतित रहे. जहां संकट में किसान नजर आए वहां शरद पवार खुद दौड़े चले जाते हैं. इस दौरान पूर्व मंत्री रमेश बंग, प्रकाश गजभिये, दीनानाथ पडोले, शब्बीर अहमद विद्रोही, ईश्वर बालबुधे, शहर अध्यक्ष अनिल अहिरकर, जिलाध्यक्ष बाबा गुजर सहित बड़ी संख्या में पदाधिकारी व कार्यकर्ता उपस्थित थे.

5 वर्ष में में वैनगंगा-नलगांगा प्रोजेक्ट

वर्चुअल रैली में शामिल प्रदेशाध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा कि दिल्ली किसान आंदोलन में राकां किसानों के साथ खड़ी है. उन्होंने कहा कि 5 वर्षों में वैनगंगा-नलगंगा प्रकल्प पूरा कर विदर्भ सहित मराठवाड़ा के किसानों के लिए पानी उपलब्ध करेंगे. उस दौरान जिप सदस्य सलील देशमुख, राजाभाऊ टांकसाले, प्रशांत पवार, दुनेश्वर पेठे, वेदप्रकाश आर्य, विशाल खांडेकर, अलका कांबले, नूतन रेवतकर, शैलेंद्र तिवारी भी उपस्थित थे.

सांसद प्रफुल पटेल ने कहा कि राज्य में अगर 48 सांसदों का बल मिल गया तो शरद पवार निश्चित ही देश का नेतृत्व करेंगे. गांव-गांव में कार्यकर्ता एकजुट हो और जनता के लिए कार्य कर पार्टी को मजबूत बनाएं. उन्होंने कहा कि पवार ने चुनाव किसी के खिलाफ भी लड़ा हो लेकिन कभी भेदभाव की राजनीति नहीं की. सभी पार्टियों के लोगों से उनके निकट के संबंध हैं. कांग्रेस की केन्द्र में सत्ता थी तब गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी से उनके संबंध थे.