Changed throughout the day, people playing sunny house decoration

  • 2 दिन बाद खुलेगा मौसम
  • खिलेगी धूप

नागपुर. लौटते मानसून के बादल नागपुर जिले के कई इलाकों में भिगाते हुए वापसी कर रहे हैं. बीते सप्ताह भर से जगह-जगह जारी बारिश का दौर इस बुधवार को भी जारी रहा और सुबह से लेकर शाम तक शहर के कई हिस्सों में थोड़ी कम-ज्यादा बौछारें शहर को भिगोते रहीं. शहर के सभी हिस्सों में कम-ज्यादा बूंदें पड़ीं और तापमान कम रहा. लोगों को बारिश के कारण गर्मी से राहत मिली है.

बुधवार को शहर का अधिकतम तापमान 30.7 डिग्री और  न्यूनतम 23.6 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया. बुधवार को काटोल, कलमेश्वर, सावनेर तहसील के कुछ इलाकों में वर्षा हुई. बीते दिनों हुई अतिवृष्टि से सोयाबीन की फसल नष्ट हो चुकी है लेकिन इन दिनों चावल की फसल को फायदा होने की खबर है. मौदा, रामटेक के इलाकों में धान की फसलें लहलहा रही हैं.

मौसम विभाग के अनुसार आगामी दो दिन में मौसम बदलने की संभावना है. बीते मंगलवार की रात से बादलों की श्रृंखला में टूट दिखाई दी है. इसी क्रम में बुधवार की दोपहर हल्की धूप भी खिली रही. गुरुवार, 24 सितंबर को भी इसी तरह बादल और बौछारों का दौर शुरू रहेगा. वर्तमान में हवा की दिशा पश्चिम से पूर्व की ओर है जो कि आगामी शुक्रवार, 25 सितंबर उत्तर-पश्चिम से हो जाएगी. इसके फलस्वरूप बादल छंटने लगेंगे. शुक्रवार दोपहर बाद से मौसम खुलने की संभावना है. वहीं मौसम एजेंसियों के अनुसार आगामी 3-4 दिनों में हवा उत्तर से दक्षिण की ओर हो जाएगी, जिससे सप्ताह भर में मौसम पूरी तरह खुलने की संभावना है. 

जिले के पास पर्याप्त जल भंडार
उल्लेखनीय है कि पिछले साल हुई अतिवृष्टि और इन साल पर्याप्त वर्षा के चलते जिले के सभी जलाशय और बांध लबालब भरे हुए हैं. छिंदवाड़ा जिले के पठारी क्षेत्रों में होने वाली वर्षा का फायदा नागपुर शहर व जिले को मिल रहा है. छिंदवाड़ा से बहकर आने वाली पेंच नदी का पानी चौरई के माचागोरा, तोतलाडोह बांध और नवेगांव खैरी के पेंच बांध से ओवरफ्लो होकर कन्हान में आ रहा है. वहीं पेंच बांध से निकली नहरों का पानी नागपुर से होकर मौदा तहसील तक पहुंच रहा है. पश्चिम नागपुर में गोरेवाड़ा, अंबाझरी जलाशय में पर्याप्त जल भंडार उपलब्ध है. जानकारों ने आगामी समय में नागपुर शहर के लिए पर्याप्त जलभंडारण होने की संभावना जताई है.