ST BUS

    नागपुर. करीब दो महीने के लॉकडाउन के बाद एसटी की बसें अब सड़कों पर नजर आने लगी हैं. आम यात्रियों के लिए बसों में सफर करना अब आसान होने लगा है. एसटी से जहां केवल लॉकडाउन में 20 बसें ही चल रही थीं. वहीं अब 50 से अधिक बसें शुरू हो गई हैं. जिस भंडारा रूट पर एसटी से केवल 2 बसें जा रही थीं, वहां अब 1 जून से 12 बसें चलने लगी हैं.

    ग्रीन जोन में आने वाले जिलों में यात्रियों को असानी से यात्रा करने के लिए बसें मिल जा रही है. वहीं जिस जोन में अभी भी कोरोना के मामलों में कोई कमी नहीं आई है, रिकवरी दर कम हैं वहां पर फिलहाल बसों के जाने से रोक लगी हुई है. एसटी बस के स्टैंड के इंचार्ज दीपक तामगाड़गे ने बताया कि 1 जून से यात्रियों की संख्या में कुछ बढ़ोत्तरी देखी जा रही है. 

    15 जून से स्थिति हो सकती है सामान्य

    बस स्टैंड मैनजमेंट की मानें तो 15 जून तक नागपुर और विदर्भ में स्थिति सामान्य हो सकती है. जिससे की बसों की संख्या पूरी सड़कों पर दौड़ सकेगी. कोरोना का संक्रमण अभी भी लोगों के दिलों में दहशत की तरह बैठा हुआ है. इसलिए लोग यात्रा करने से फिलहाल परहेज कर रहे हैं. लेकिन 15 जून तक बाकी बसों के चलने की प्रबल संभावाना है.

     भंडारा रूट पर बढ़ी यात्रियों की संख्या

    लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद एसटी बस स्टैंड से अब करीब 50 फेरी बसें चल रही हैं. इससे पहले 20 से 25 फेरियां की बसों की चल रही थीं. बसों की संख्या सबसे ज्यादा भंडारा रूट पर है. इसके अलावा वर्धा, यवतमाल, अमरावती, चंद्रपुर में भी यात्रियों की संख्या कुछ सुधर रही है. वहीं अकोला के आगे लॉकडाउन की वजह से फिलहाल बसों को नहीं भेजा रहा है. 

    अब सावधानी है जरूरी

    15 अप्रैल से बंद हुए एसटी के पहिए अब जून में धीरे-धीरे खुलने लगे हैं. लेकिन खतरा अभी टला नहीं है.एसटी मैनेजमेंट को अब यात्रियों की सुरक्षा का पूरा ख्याल रखना होगा. बसों में मास्क अनिवार्य करने के साथ-साथ सैनिटाइजेशन की भी सुविधा देनी होगी. ताकि बसों में सफर करने वाले यात्रियों को संक्रमण का खतरा न रहे. बस स्टैंड पर भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराना सुनिश्चित किया जाना चाहिए.