shivbhojan

  • मेयो, मेडिकल में रोगियों के परिजनों ने की मांग

नागपुर. मेडिकल में उपचार ले रहे रोगियों के परिजनों को भोजन मिल सके, इसके लिए शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय (मेडिकल)और इंदिरा शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय व रुग्णालय परिसर में दीनदयाल थाली शुरू की गई थी. लेकिन कोरोना लॉकडाउन से यह योजना बंद पड़ी है. मरीजों के परिजनों को दो समय भोजन मिल सके, इसके लिए दीनदयाल थाली की जगह शिवभोजन थाली शुरू करें, ऐसी मांग जोर पकड़ रही है.

गरीबी रेखा से नीचे जीवन जी रहे लोगों के रोग-व्याधि के समय के लिए वरदान मानी जाने वाली दीनदयाल थाली 2017 में शुरू की गई थी. कोरोना संक्रमण शुरू होने के बाद से यह थाली योजना बंद कर दी गई है जिससे यहां आने वाले गरीबों के बुरे हाल हो रहे हैं. खासकर यहां पर सामान्य रोगियों से लेकर कैंसर जैसे भयानक रोग से ग्रस्त मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. इनके उपचार के लिए मेयो और मेडिकल में रोगियों के परिजन कई-कई महीने यहीं रहते हैं.

यहां आने वाले लोगों की जेब में पैसा कम होता है, इसलिए भूख मिटाना उनके लिए बड़ी चुनौती होती है ऐसे में दीनदयाल थाली से बहुत राहत मिलती थी. लेकिन यह योजना ठप होने से अब यहां शिवभोजन योजना शुरू की जाए, ऐसी मांग विदर्भ वैद्यकीय महाविद्यालय व आरोग्य सेवा कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष त्रिशरण सहारे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र भेजकर की है.

मेयो-मेडिकल में जगह उपलब्ध

त्रिशरण सहारे ने कहा कि मेडिकल में आने वाले रोगियों में प्राय:-प्राय: सभी विदर्भ के अलावा मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना आदि पड़ोसी राज्यों के होते हैं. ये सभी गरीब होते हैं. इनके पास दो समय भोजन की किल्लत होती है. रोगियों के परिजनों की भोजन की समस्या हल हो, इसके लिए मेडिकल और मेयो में दीनदयाल थाली योजना शुरू की गई थी. लेकिन यह अभी बंद पड़ी है. इसलिए राज्य सरकार अब यहां मेडिकल के नेत्र विभाग और मेयो के सर्जिकल कॉम्प्लेक्स में दी गई जगह पर शिवभोजन थाली शुरू करें.