स्टेशन : 1 चढ़ा ट्रेन पर, दूसरा पटरी पर लेटा

  • मानसिक विकलांग 2 युवकों ने सुरक्षाकर्मियों को किया परेशान

नागपुर. स्टेशन के प्लेटफार्म 6 पर दोपहर करीब 12.40 से 1.40 बजे तक मानसिक विकलांग 2 युवकों ने रेलवे सुरक्षा बल और लोहमार्ग पुलिस को परेशान कर दिया. प्लेटफार्म पर ट्रेन 02811 एलटीटी-हटिया स्पेशल ट्रेन खड़ी थी. इनमें से एक युवक ट्रेन के ऊपर चढ़ गया तो दूसरा छुपकर ट्रेन के नीचे बैठ गया. दोनों को काफी जद्दोजहद के बाद पकड़ा जा सका.

आत्महत्या के लिए चढ़ा

मिली जानकारी के अनुसार, ट्रेन पर चढ़े युवक का नाम अंबेश्वर कुमार सिंह (28) है. वह मूलत: झारखंड का रहने वाला है और उक्त ट्रेन में ही सफर कर रहा था. ट्रेन अपने निर्धारित समय से करीब 50 मिनट पहले नागपुर स्टेशन पर पहुंच गई थी. इसी दौरान स्वयं को विभिन्न कारणों से परेशान बता रहा अंबेश्वर आत्महत्या के उद्देश्य से एसी कोच के ऊपर चढ़ गया. इसी बीच किसी की नजर पर उस पर पड़ी और तुरंत कंट्रोल रूम को सूचित किया, जहां से आरपीएफ थाने को जानकारी मिली. ड्यूटी पर तैनात एएसआई बघेल अपने साथियों के साथ मौके पर पहुंचे और अंबेश्वर को समझाना शुरू किया. इस दौरान जीआरपी के एएसआई तायवाडे भी वहां पहुंच गये. कुछ देर की समझाइश के बाद अंबेश्वर स्वयं ही ट्रेन से नीचे उतर गया. आरपीएफ ने उसे लोहमार्ग पुलिस के हवाले कर दिया. 

कुछ सेकंड से बची जान

अंबेश्वर का एपिसोड करीब 1.50 बजे समाप्त हुआ और ट्रेन रवाना होने को तैयार थी. इसी दौरान एएसआई तायवाड़े को ट्रेन के नीचे एक युवक नजर आया जो छुपकर बैठा हुए था. उसका नाम विनायक जोशी (22) बताया गया. ट्रेन का सिग्नल हो चुका था. यदि ट्रेन चल जाती तो कोच की चपेट में आने से उसकी मौत तय थी. एएसआई तायवाडे ने आनन-फानन में गार्ड के पास संदेश पहुंचाया कि फिलहाल ड्राइवर को ग्रीन सिग्नल न दें क्योंकि ट्रेन के नीचे भी एक व्यक्ति बैठा हुआ है.

विनायक को तुरंत की बाहर निकालकर ट्रेन रवाना की गई. पता चला कि विनायक भी मानसिक रूप से कमजोर है और उसका इलाज जारी है. वह इससे पहले भी इसी प्लेटफार्म पर ट्रेन के कोच पर चढ़कर वीरूगीरी कर चुका है. पिछली बार भी मानसिक स्थिति के चलते उस पर कानूनी कार्रवाई नहीं की जा सकी थी. विनायक को जीआरपी थाने लेकर उसके माता-पिता को सूचित किया गया. जहां उसकी मां पहुंची और उसे अपने साथ ले गई.