Ticket hall made indoor parking, railway workers ruining nation's property
File Photo

  • 45 मिनट मची रही दहशत

नागपुर. स्टेशन पर मंगलवार सुबह उस समय दहशत मच गई जब लोहमार्ग पुलिस का बम निरोधक दस्ता पहुंचा और एकाएक पूरा परिसर खाली करा दिया गया. पता चला कि दस्ते को एक लावारिस बैग की सूचना मिली जो काफी देर से पड़ा हुआ था. हालांकि करीब 45 मिनट की जांच में उक्त बैग में मिले दस्तावेज से वह एक महिला यात्री का बैग निकला. डाक्यूमेंट से मिले मोबाइल नंबर पर कॉल कर उक्त महिला को सूचित किया गया.

जानकारी के अनुसार, स्टेशन पर कार्यरत वरिष्ठ कुली अब्दुल मजीद को पश्चिमी भाग के निकासी द्वार से कुछ पहले एक बैग लावारिस हालत में दिखाई दिया. काफी देर तक कोई भी बैग लेने नहीं आया तो उन्होंने जीआरपी को सूचित किया. आनन-फानन में एपीआई शेख के नेतृत्व में दस्ता भी पहुंच गया और आसपास मौजूद सभी यात्रियों को दूर कर दिया गया. साथ ही वाहनों की आवाजाही भी रोक दी. करीब 45 मिनट तक डॉग स्नीफिंग और स्कैनिंग की जांच के बाद जब कुछ संदिग्ध नहीं मिला तो स्थिति सामान्य की गई. बैग खोलकर देखने पर उसमें एक महिला के पहचान पत्र आदि कागजात थे.

एपीआई शेख ने इन कागजात में मिले मोबाइल नंबर पर महिला को कॉल किया. महिला ने स्वीकार किया गया कि ज्यादा सामान पास में होने वह जल्दबाजी में गलती से बैग स्टेशन परिसर के डिवाइडर पर ही भूल गई. महिला को स्टेशन बुलाकर बैग सुपुर्द किया गया. साथ ही दोबारा ऐसी गलती न करने की सख्त हिदायत दी गई. इसके बाद सभी ने राहत की सांस ली. यह कार्रवाई एपीआई शेख के मार्गदर्शन में बम निरोधक दस्ते के हेड कॉन्स्टेबल रवींद्र बांते, मनोज बोराडे, नीरज पाटिल, राहुल सेलोटे, राजेश पंडित आदि ने की.