Traffic Jam, Market

    नागपुर. शहर के पार्किंग मैनेजमेंट को लेकर हाई कोर्ट की ओर से दिए गए निर्देशों के बाद अब नींद से जागी मनपा द्वारा हैदराबाद की अर्बन मास ट्रांजिट कम्पनी (यूएमटीसी) को पार्किंग मैनेजमेंट और स्ट्रीट पार्किंग का प्लान तैयार करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. प्रस्ताव को अंतिम रूप देने से पूर्व कम्पनी की ओर से प्रत्येक जोन में पार्षदों को इसकी भलीभांति जानकारी दी जा रही है.

    अलग-अलग स्थानों पर हो रहे पावर पॉइंट प्रेजेंटेंशन में पार्षदों द्वारा क्षेत्र के आधार पर सुझाव रखे जा रहे हैं. इसी तरह पूर्व स्थायी समिति सभापति पिंटू झलके ने अहमदाबाद महानगरपालिका की तर्ज पर सभी वाहनों की खरीदी पर पथ कर लगाने के विकल्प पर विचार करने का सुझाव दिया. उन्होंने कहा कि शहर की अधिकांश इमारतों के बाहर ही वाहनों की पार्किंग होती है जिससे इस विकल्प को गंभीरता से लिया जा सकता है. 

    अत्याधुनिक पार्किंग की है आवश्यकता

    पूर्व महापौर नंदा जिचकार ने कहा कि शहर स्मार्ट सिटी की ओर अग्रसर है जिससे यहां की पार्किंग व्यवस्था भी अत्याधुनिक होनी चाहिए. कुछ पार्षदों का मानना था कि शहर में कई मॉल्स हैं लेकिन वाहनों की पार्किंग सड़कों के किनारे होती है. इस तरह की समस्याओं का सर्वप्रथम हल होना चाहिए.

    मनपा की ओर से पार्किंग की व्यवस्था करने के बाद उन स्थानों पर वाहनों की पार्किंग सुनिश्चित करना किसी चुनौती से कम नहीं है. इसका उदाहरण हाल ही में सेंट्रल बाजार रोड पर देखा जा रहा है. जहां पार्किंग स्थल बनाने के बावजूद अधिकांश वाहन सड़कों के किनारे खड़े रहते हैं. कांग्रेस के वरिष्ठ पार्षद प्रफुल्ल गुड्धे ने सम्पूर्ण योजना पर अध्ययन करने के लिए पावर पॉइंट प्रेजेंटेंशन की प्रति उपलब्ध कराने की मांग की. 

    भारी वाहनों की आवाजाही बंद हो

    पूर्व स्थायी समिति सभापति बाल्या बोरकर ने कहा कि शहर के भीतर भारी वाहनों और बस्तियों में प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए. इन भारी वाहनों के लिए ट्रक टर्मिनल और ट्रांसपोर्ट प्लाजा का उपयोग होना चाहिए. लकड़गंज, स्माल फैक्टरी एरिया, पारडी नाका, कलमना में बड़े पैमाने में भारी वाहनों की आवाजाही लगी रहती है. इन वाहनों की शहर की भीतरी सड़कों पर आवाजाही होती है जिससे न केवल दुर्घटना बल्कि सड़कों की हालत भी खराब होती है.

    चर्चा के दौरान वरिष्ठ पार्षद आभा पांडे ने घनी आबादी वाले इलाकों में वाहनों की पार्किंग को लेकर क्या योजना बनाई गई. इसका लेखाजोखा प्रस्तुत करने की मांग की. उन्होंने कहा कि कई घनी बस्तियों में सड़कों के किनारे ही वाहनों की पार्किंग होने से लोगों का आना-जाना मुश्किल हो जाता है. कुछ महिला पार्षदों ने ऑन स्ट्रीट पार्किंग के लिए ऑपरेटर का चयन करते समय महिला बचत गटों को काम सौंपने का सुझाव दिया. 

    मनपा की सभा में पेश होगा प्रस्ताव

    उल्लेखनीय है कि यूएमटीसी कम्पनी की ओर से शहर का सर्वेक्षण कर प्लान तैयार किया जिसे प्रशासन द्वारा मनपा की सभा में मंजूरी के लिए रखा गया था. प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान सदन ने मनपा के सभी जोन में पावर पॉइंट प्रेजेंटेंशन देकर सभी की सहमति के अनुसार पुन: संशोधित प्रस्ताव तैयार कर मनपा की सभा के समक्ष रखने के आदेश दिए थे जिसके अनुसार अब कम्पनी की ओर से सभी 10 जोन में प्रस्तुतिकरण किया जा चुका है. निर्देशों के अनुसार अंतिम प्रस्ताव मनपा की सभा में रखा जाएगा जिसके बाद पार्किंग पालिसी पर कार्य होगा.