Crime

    नागपुर. नरेंद्रनगर परिसर में रहने वाले डॉक्टर के घर पर लगातार चोरी की वारदात हो रही थी. 1-1 कर जेवरात चोरी किए जाने के कारण पहले किसी को भनक नहीं लगी. लेकिन जब अचानक नकद गायब हुई तो प्रकरण बेलतरोड़ी पुलिस तक पहुंचा. पुलिस ने घर की नौकरानी और उसकी नाबालिग बेटी को पकड़ लिया.  कंफर्ट होमस्, नरेंद्रनगर निवासी संजयकुमार बारिक (36) डॉक्टर है.

    उन्होंने घर पर काम के लिए बाई रखी थी. बाई के साथ उसकी 16 वर्ष की बेटी भी घर में आती-जाती थी. करीब 1 महीने पहले उन्हें घर से सोने के जेवरात चोरी होने का पता चला. उन्होंने बेलतरोड़ी पुलिस से शिकायत की. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच आरंभ की लेकिन कुछ पता नहीं चला. कुछ दिन पहले दोबारा बारिक के घर की अलमारी से नकद रुपये चोरी हो गए.

    इस बार पुलिस को पक्का यकीन था कि वारदात को अंजाम देने वाला कोई घर में जाने-आने वाला व्यक्ति है. संदेह के आधार पर पुलिस ने नौकरानी और उसकी बेटी से पूछताछ की. दोनों ने बताया कि काम के बहाने बेटी घर के बेडरूम में जाती थी. मौका मिलते ही एक जेवर चोरी कर लेती थी. 

    2.72 लाख का माल जब्त

    इससे कभी घर मालिक को संदेह नहीं हुआ. दोनों की नीयत खराब हो गई और घर के सारे दस्तावेज और नकद चोरी कर लिए. पुलिस ने उनसे 65 ग्राम सोना, 15,000 रुपये नकद और वारदात को अंजाम देने के लिए उपयोग किया गया दुपहिया वाहन सहित 2.72 लाख रुपये का माल जब्त कर लिया.

    डीसीपी अक्षय शिंदे और एसीपी नीलेश पालवे के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर विजय अकोत, सब इंस्पेक्टर विकास मनपिया, हेड कांस्टेबल शैलेष बड़ोदेकर, तेजराम देवले, अविनाश ठाकरे, रणधीर दीक्षित, मिलिंद पटले, प्रशांत सोनुलकर, कमलेश गणेर, बजरंग जुनघरे, कुणाल लांडगे, वंदना लोटे, मीना यादव, अश्विनी टेंभरे, शीतल और अमिता ने कार्रवाई को अंजाम दिया.